Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

“रंग भले ही स्याह हो” मेरी पंक्तियों का – अपने रंग तो तुम घोलते हो जब पढ़ते हो

मेरी पंक्तियों का “रंग भले ही स्याह हो” –
रंग तो अपने तुम घोलते हो
जब पढ़ते हो

अपने ही कुछ छुपे रंगों से
खुद से परिचित कराते हो
हमने तो बस अपनी बात लिखी है
ये तो तुम हो जो उनको
अपनाते हो –
अपना ही रंग देखते हो

वैसे हमने भी कुछ और कई
खूबसूरत रंग हैं देखे,
कुछ गहरे तो कुछ फीके भी थे

रंग हर अलग अध्याय का
अलग एहसास की
एक अभिव्यक्ति भर ही तो है –

अक्सर उन पन्नों को उलटे – पलटते
कभी हरकत होठों की होती है
तो कभी छलकती आँखे भी हैं
और कभी वो रंग धुल के
आंसुओं में कपोलों पर ढलक के आती है
जिनका कोई रंग तो नहीं होता –
बस एक नमकीन सा स्वाद छोड़ जाती है

सच तो ये है – रंग अलग अलग
तो अपने तुम घोलते हो
जब तुम पढ़ते हो
भले ही मेरी पंक्तियों का “रंग स्याह हो”

Language: Hindi
81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
अपने आंसुओं से इन रास्ते को सींचा था,
अपने आंसुओं से इन रास्ते को सींचा था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मुखौटा!
मुखौटा!
कविता झा ‘गीत’
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
चाटुकारिता
चाटुकारिता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
बाहर से लगा रखे ,दिलो पर हमने ताले है।
Surinder blackpen
खुश है हम आज क्यों
खुश है हम आज क्यों
gurudeenverma198
........,
........,
शेखर सिंह
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
जिंदगी को रोशन करने के लिए
जिंदगी को रोशन करने के लिए
Ragini Kumari
"इसलिए जंग जरूरी है"
Dr. Kishan tandon kranti
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"अभी" उम्र नहीं है
Rakesh Rastogi
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
काँटे तो गुलाब में भी होते हैं
Sunanda Chaudhary
*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
*केवल पुस्तक को रट-रट कर, किसने प्रभु को पाया है (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
स्तुति - दीपक नीलपदम्
स्तुति - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
साहस है तो !
साहस है तो !
Ramswaroop Dinkar
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रक्तदान पर कुंडलिया
रक्तदान पर कुंडलिया
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
हश्र का वह मंज़र
हश्र का वह मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
अखंड भारत
अखंड भारत
विजय कुमार अग्रवाल
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भेड़ चालों का रटन हुआ
भेड़ चालों का रटन हुआ
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
कितने लोग मिले थे, कितने बिछड़ गए ,
Neelofar Khan
नई बहू
नई बहू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
पूर्वार्थ
Loading...