Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 2 min read

* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *

* यौवन पचास का, दिल पंद्रेह का *

डॉ अरूण कुमार शास्त्री _एक अबोध बालक _अरूण अतृप्त

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है
तस्वीर बदलती पल पल भारत की
सीना तान ऊंचा भाल नजरें लक्ष्य पर
अविचलित दूरदृष्टि सधे कदम से
विकसित होती ये दुनिया
मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है
झुकती हुई वो दुनिया जो कभी
दिखाती थी आन्खें हमको डराती थी
अपने बाहुबल से हथियारों के बल से
बदलती तस्वीर इस दुनिया की
मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है
विज्ञान की होती बेश्कीमती खोजें
आकाश में आदमी की उडान
धरती से चांद, चांद से मंगल, मंगल से शनि
फिर शनि से सूर्य तक की बैखाफ़ परवाज़

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखा है

बेसिक लेन्ड लाइन फोन से

अल्ट्रा स्मार्ट फोन का पदार्पण

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

चिकित्सा विज्ञान में अभूतपूर्ण तरक्की

लोहे के कुल्हे लोहे के घुटने और

कृत्रिम हृदय व अन्य मूलांग लगते

रोबोट सर्जरी लोगों द्वारा किये जा रहे

स्वेच्छिक मन से इच्छाओं से अंग दान

बचाते हुए जीवन को , मृत्युपरांत भी

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

भीषण से भीषण बीमारियां चेचक प्लेग

और कोविद जैसे मानव भक्खशी

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

प्राकृतिक आपदायें उनसे लड़ते झूझते

असहाय मानव बिलखते बच्चे, पिघलते भू खण्ड

मेरी उमर के नौ जवानों ने देखी है

भयंकर से भयंकर विनाश लीला

और उनसे सीखा है फिर से जीत जाना

न मानी हार न टूटना भले ही मर जाना

लड़ते लड़ते शहीद हो जाना, तब जाकर मिली है

ये विकसित दुनिया मेरे बच्चों तुमको

हम आज भी लड रहे हैं और पहले भी लड रहे थे

और आगे भी लड़ते रहंगे कब् सीखा हमने

हार जाना मेरी उमर के नौ जवानों ने सीखा है

अपनी कौम को देकर जाना

एक सशक्त मजबूत और जिन्दा दिल जोश

समाज, विश्व और आनन्द से मुस्कुराना

हमको आशा है विश्वास भी है ये तुम कभी न भूल जाना

Language: Hindi
1 Like · 63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
नया साल
नया साल
'अशांत' शेखर
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"तुर्रम खान"
Dr. Kishan tandon kranti
" आज भी है "
Aarti sirsat
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
हम हँसते-हँसते रो बैठे
हम हँसते-हँसते रो बैठे
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
*भरोसा तुम ही पर मालिक, तुम्हारे ही सहारे हों (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रकृति
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
जीवन के इस लंबे सफर में आशा आस्था अटूट विश्वास बनाए रखिए,उम्
Shashi kala vyas
रस का सम्बन्ध विचार से
रस का सम्बन्ध विचार से
कवि रमेशराज
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
पघारे दिव्य रघुनंदन, चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
💐अज्ञात के प्रति-146💐
💐अज्ञात के प्रति-146💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
*शीत वसंत*
*शीत वसंत*
Nishant prakhar
हां....वो बदल गया
हां....वो बदल गया
Neeraj Agarwal
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
हारने से पहले कोई हरा नहीं सकता
कवि दीपक बवेजा
जननी
जननी
Mamta Rani
किसी मूर्ख को
किसी मूर्ख को
*Author प्रणय प्रभात*
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
तेरा मेरा वो मिलन अब है कहानी की तरह।
सत्य कुमार प्रेमी
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
हालात बदलेंगे या नही ये तो बाद की बात है, उससे पहले कुछ अहम
पूर्वार्थ
Loading...