Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#23 Trending Author
Aug 18, 2016 · 1 min read

ये राखी रीत है प्यारी बहन भाई मिलाती है

ये राखी रीत है प्यारी बहन भाई मिलाती है
कलाई भाई की बहनों के हाथों से सजाती है

अगर मज़बूर हो बहना रहे परदेश राखी पर
तो करके याद भाई को बहुत आँसू बहाती है

बहुत मजबूत होता है बहन का भाई से रिश्ता
तभी इक डोर नाजुक सी इन्हें यूँ बाँध पाती है

बहन सुख दुख में भाई के खड़ी यूँ साथ में रहती
कि भाई को बहन में ही दिखाई माँ दे जाती है

वो लड़ना,रूठ जाना,खिलखिलाना बातों बातों में
बहन भाई को राखी याद बचपन की दिलाती है

बहन को प्यार बाबुल सा ही मिले बस भाई से जग में
तभी तो भाई में बहना पिता का रूप पाती है

नहीं उपहार प्यारा प्यार से है ‘अर्चना’ बढ़कर
सलामत बस रहे भैया दुआ बहना मनाती है

डॉ अर्चना गुप्ता

321 Views
You may also like:
पर्यावरण
Vijaykumar Gundal
# जज्बे सलाम ...
Chinta netam " मन "
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
शृंगार छंद और विधाएं
Subhash Singhai
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित ,...
Subhash Singhai
✍️बचपन था जादुई चिराग✍️
"अशांत" शेखर
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
चढ़ता पारा
जगदीश शर्मा सहज
दर्द का
Dr fauzia Naseem shad
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
धागा भाव-स्वरूप, प्रीति शुभ रक्षाबंधन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
मारुति वंदन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
नशा नहीं सुहाना कहर हूं मैं
Dr Meenu Poonia
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
तुम्हारे शहर में कुछ दिन ठहर के देखूंगा।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
“ हमर महिसक जन्म दिन पर आशीर्वाद दियोनि ”
DrLakshman Jha Parimal
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️हार और जित✍️
"अशांत" शेखर
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...