Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2020 · 1 min read

ये मौसम है सावन

उमड़-घुमड़ कर बादल आये बूम-बड़ाम-बड़ाम।
दुम दबाकर भागी गर्मी पारा हुआ धडाम।

सुबह सुहानी दोपहर सुन्दर प्यारी प्यारी शाम।
देशी लंगड़ा और दसहरी तरह तरह के आम।

बाग-बाग दिल हुए सभी के पेड़ों पर हैं झूले।
रिमझिम बारिश में सब बच्चे अपनी सुध-बुध भूले।

कोयल गाती मीठी लय में मेढक भी टर्राए।
रानी बहते पानी में कागज की नाव चलाए।

यह सब मस्ती देख बड़ों को याद आ रहा बचपन।
हम भी भीगें हम भी झूलें अभी नहीं वश में मन।

नाच मोर का ,मेघों की धुन सुमन-सृजित है उपवन।
महका चन्दन अब बहका मन यह मौसम है सावन ।

संजय नारायण

Language: Hindi
4 Likes · 349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
*हर पल मौत का डर सताने लगा है*
Harminder Kaur
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
राम नाम
राम नाम
पंकज प्रियम
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
हे गणपति श्रेष्ठ शुभंकर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
मसला सुकून का है; बाकी सब बाद की बाते हैं
Damini Narayan Singh
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चाँद
चाँद
लक्ष्मी सिंह
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
मूहूर्त
मूहूर्त
Neeraj Agarwal
गुरु दीक्षा
गुरु दीक्षा
GOVIND UIKEY
🙅याद रहे🙅
🙅याद रहे🙅
*प्रणय प्रभात*
" अलबेले से गाँव है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तन्हा था मैं
तन्हा था मैं
Swami Ganganiya
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
छुपा है सदियों का दर्द दिल के अंदर कैसा
VINOD CHAUHAN
****वो जीवन मिले****
****वो जीवन मिले****
Kavita Chouhan
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
हाथों में गुलाब🌹🌹
हाथों में गुलाब🌹🌹
Chunnu Lal Gupta
जिन्दगी मे एक बेहतरीन व्यक्ति होने के लिए आप मे धैर्य की आवश
जिन्दगी मे एक बेहतरीन व्यक्ति होने के लिए आप मे धैर्य की आवश
पूर्वार्थ
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
लेके फिर अवतार ,आओ प्रिय गिरिधर।
Neelam Sharma
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
*मूर्तिकार के अमूर्त भाव जब,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मैं चाँद पर गया
मैं चाँद पर गया
Satish Srijan
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
खाएँ पशु को मारकर ,आदिम-युग का ज्ञान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
उसे पता है मुझे तैरना नहीं आता,
Vishal babu (vishu)
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
Rachana
हिन्दी दोहा -जगत
हिन्दी दोहा -जगत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
" जलचर प्राणी "
Dr Meenu Poonia
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोशिशों में तेरी
कोशिशों में तेरी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...