Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2023 · 1 min read

ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन

ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन त महुं बेचहुं, अगर तुमन पुरानेच रद्दा‌ मा चलहुं कइहा त कभु डाँ. अम्बेडकर, डाँ. कलाम नइ‌ बन सका।

Language: Chhattisgarhi
178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
बेटी उड़ान पर बाप ढलान पर👸👰🙋
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू तो होगी नहीं....!!!
तू तो होगी नहीं....!!!
Kanchan Khanna
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
gurudeenverma198
नया साल
नया साल
Arvina
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
बचपन का प्यार
बचपन का प्यार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
*तजकिरातुल वाकियात* (पुस्तक समीक्षा )
Ravi Prakash
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
कहती है हमें अपनी कविताओं में तो उतार कर देख लो मेरा रूप यौव
DrLakshman Jha Parimal
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
Phool gufran
"संविधान"
Slok maurya "umang"
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
कोरी आँखों के ज़र्द एहसास, आकर्षण की धुरी बन जाते हैं।
Manisha Manjari
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
किंकर्तव्यविमूढ़
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
जिस कदर उम्र का आना जाना है
जिस कदर उम्र का आना जाना है
Harminder Kaur
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
आओ जाओ मेरी बाहों में,कुछ लम्हों के लिए
Ram Krishan Rastogi
किसी को फर्क भी नही पड़ता
किसी को फर्क भी नही पड़ता
पूर्वार्थ
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
🙅आज🙅
🙅आज🙅
*Author प्रणय प्रभात*
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रात हुई गहरी
रात हुई गहरी
Kavita Chouhan
एक खाली बर्तन,
एक खाली बर्तन,
नेताम आर सी
"माटी तेरे रंग हजार"
Dr. Kishan tandon kranti
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
Loading...