Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

ये बेटियाँ हमारी

“ये बेटियाँ हमारी”

(22 12122 22 12122 बह्र की रचना)

ममता की जो है मूरत, समता की जो है सूरत।
वरदान है धरा पर, ये बेटियाँ हमारी।
मा बाप को रिझाके, ससुराल को सजाये।
दो दो घरों को जोड़े, ये बेटियाँ दुलारी।।

जो त्याग और तप की, प्रतिमूर्ति बन के सोहे।
निस्वार्थ प्रेम रस से, हृदयों को सींच मोहे।
परिवार के, मनों के, रिश्ते बनाये रखने।
वात्सल्य और करुणा, की खोल दे पिटारी।।

ख़ुशियाँ सदा खिलाती, दुख दर्द की दवा बन।
मन को रखे प्रफुल्लित, ठंडक जो दे हवा बन।
घर एकता में बाँधे, रिश्तों के साथ चल कर।
ममतामयी है बेटी, ये छाप है तिहारी।।

साबित किया है तुमने, हर क्षेत्र में तु आगे।
सम्मान हो या साहस, बेटों से दूर भागे।
लेती छलांग नभ से, खंगालती हो सागर।
तुम पर्वतों पे चढ़ती, अब ना रही बिचारी।।

सन्तान के, पिया के, सब कष्ट खुश हो लेती।
कन्धा मिला के चलती, पग पग में साथ देती।
जो एकबार थामा, वो हाथ छोड़ती ना।
तुमको नमन है बेटी, हर घर को तुम निखारी।।

1 Like · 346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य और सत्ता
सत्य और सत्ता
विजय कुमार अग्रवाल
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
"संविधान"
Slok maurya "umang"
अच्छी बात है
अच्छी बात है
Ashwani Kumar Jaiswal
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
सुविचार
सुविचार
Sanjeev Kumar mishra
बैसाखी....
बैसाखी....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
प्रणय 8
प्रणय 8
Ankita Patel
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
स्वयं पर विश्वास
स्वयं पर विश्वास
Dr fauzia Naseem shad
क्या है नारी?
क्या है नारी?
Manu Vashistha
■ तेवरी-
■ तेवरी-
*Author प्रणय प्रभात*
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
नारी शिक्षा से कांपता धर्म
Shekhar Chandra Mitra
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"साड़ी"
Dr. Kishan tandon kranti
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
बढ़े चलो ऐ नौजवान
बढ़े चलो ऐ नौजवान
नेताम आर सी
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
रोटी का कद्र वहां है जहां भूख बहुत ज्यादा है ll
Ranjeet kumar patre
रंग पंचमी
रंग पंचमी
जगदीश लववंशी
दिन की शुरुआत
दिन की शुरुआत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
फिर एक पलायन (पहाड़ी कहानी)
श्याम सिंह बिष्ट
झील के ठहरे पानी में,
झील के ठहरे पानी में,
Satish Srijan
फिदरत
फिदरत
Swami Ganganiya
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
गरीबों की शिकायत लाजमी है। अभी भी दूर उनसे रोशनी है। ❤️ अपना अपना सिर्फ करना। बताओ यह भी कोई जिंदगी है। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...