Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2024 · 1 min read

— ये नेता हाथ क्यूं जोड़ते हैं ??–

हम सब जानते हैं,
बड़े अछे से पहचानते हैं
किसी से कुछ छुपा नही
किसी से कुछ बचा नही
फिर भी हर पांच साल में
एक बार यह नेता सारे
सबके सामने हाथ
क्यूं जोड़ते हैं ??

अपनी इज्जत की खातिर
अपने कुर्सी की खातिर
पूरे नतमस्तक हो जाते हैं
झुक झुक के सलाम कर जाते हैं
जो कहो वो भी कर जाते हैं
फिर अंत में हाथ जोड़ कर
क्यूं जाते हैं ??

एक बार मिली कुर्सी तो
सब कुछ बस भूल जाते हैं
जैसे खुद को बड़ा भगवान्
सा बन के सामने आते हैं
अन्नदाता की भांति खुद को
महान कहलाते हैं
उस के बाद कभी , खुद देखो
इनके हाथ पांच साल तक
नही जुड़ पाते हैं , क्यूं ??

कुर्सी की लालच में
बड़े बड़े धुरंधर देखे हमने
वक्त पड़ेगा जब किसी आम का
बाहर दरबान से ही बात करवाते
जब तक न आ जाए गले तक हड्डी
तब तक उस को दूर ही भगाते
फिर कभी इनके हाथ नही
जुड़ पाते, नही जुड़ पाते ..

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
2 Likes · 21 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
............
............
शेखर सिंह
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
inner voice!
inner voice!
कविता झा ‘गीत’
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
5-सच अगर लिखने का हौसला हो नहीं
Ajay Kumar Vimal
3342.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3342.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बँटवारा
बँटवारा
Shriyansh Gupta
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इश्क़ में ना जाने क्या क्या शौक़ पलता है,
इश्क़ में ना जाने क्या क्या शौक़ पलता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
देख बहना ई कैसा हमार आदमी।
सत्य कुमार प्रेमी
होना नहीं अधीर
होना नहीं अधीर
surenderpal vaidya
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
"बे-दर्द"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन के गीत
जीवन के गीत
Harish Chandra Pande
प्यार
प्यार
Anil chobisa
आगाज़
आगाज़
Vivek saswat Shukla
रंगों का महापर्व होली
रंगों का महापर्व होली
इंजी. संजय श्रीवास्तव
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
कागज़ से बातें
कागज़ से बातें
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
God O God
God O God
VINOD CHAUHAN
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
जिनके होंठों पर हमेशा मुस्कान रहे।
Phool gufran
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
*सजता श्रीहरि का मुकुट ,वह गुलमोहर फूल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
चॅंद्रयान
चॅंद्रयान
Paras Nath Jha
ठहराव नहीं अच्छा
ठहराव नहीं अच्छा
Dr. Meenakshi Sharma
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
तुम जिसे खुद से दूर करने की कोशिश करोगे उसे सृष्टि तुमसे मिल
Rashmi Ranjan
"हाथों की लकीरें"
Ekta chitrangini
Jay prakash dewangan
Jay prakash dewangan
Jay Dewangan
लगन लगे जब नेह की,
लगन लगे जब नेह की,
Rashmi Sanjay
Loading...