Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2023 · 1 min read

ये चिल्ले जाड़े के दिन / MUSAFIR BAITHA

स्कूली दिनों की लिखी मेरी यह कविता :

ये चिल्ले जाड़े के दिन

ये चिल्ले जाड़े के दिन
उफ़्फ़! कितनी सर्दी
शीतलहरी के दिन
निकलो तो जरा गरम कपड़ों के बिन

ये चिल्ले जाड़े के दिन

मार्तंड बादलों से है हारा
धूप का न नामोनिशान
रात तो है रात
दिनभर लगती है धुन

ये चिल्ले जाड़े के दिन

कोई कोट डाले कोई स्वेटर पहने
कोई ओढ़े हुए है कम्बल रजाई
आज सर्दी की तो आई है बहार
गर्मी जैसे हो ठिठुरी सकुची शरमाई
बेबस बेचारों के हैं ये दुर्दिन

ये चिल्ले जाड़े के दिन

आखिर कितने दिन चलेगी
इस महाशय जाड़े की
एक दिन सूरज उसे पछाड़ेगा
जब निकलेगा सूरज दुम दबा कर भागेगा जाड़ा
कहीं दूसरी जगह जा लेगा किनारा
हो जाएगा वह उड़नछू
फिर बहुरेगी धरा पर ज्योति किरण

ये चिल्ले जाड़े के दिन

Language: Hindi
321 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
मानव और मशीनें
मानव और मशीनें
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-552💐
💐प्रेम कौतुक-552💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
कुदरत और भाग्य के रंग..... एक सच
Neeraj Agarwal
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
आपकी आत्मचेतना और आत्मविश्वास ही आपको सबसे अधिक प्रेरित करने
Neelam Sharma
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
#एक_स्तुति
#एक_स्तुति
*Author प्रणय प्रभात*
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
वक्त के रूप में हम बदल जायेंगे...,
कवि दीपक बवेजा
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
প্রতিদিন আমরা নতুন কিছু না কিছু শিখি
Arghyadeep Chakraborty
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
ईगो का विचार ही नहीं
ईगो का विचार ही नहीं
शेखर सिंह
सन् 19, 20, 21
सन् 19, 20, 21
Sandeep Pande
"बड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
सबका साथ
सबका साथ
Bodhisatva kastooriya
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
शब्द : एक
शब्द : एक
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
सुंदर विचार
सुंदर विचार
Jogendar singh
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
दूरियां अब सिमटती सब जा रही है।
surenderpal vaidya
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
* मन में उभरे हुए हर सवाल जवाब और कही भी नही,,
Vicky Purohit
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
Loading...