Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

“ये कैसा सावन”

ये कैसा सावन आया,
कैसी ये वर्षा ऋतु |
तन भीगा, मन कोरा,
नाचा नहीं ये मन मयूर|
ना झूला ना कजरी,
केवल मेघों का है शोर|
नौनिहलों की नाव कहाँ,
केवल बस्तों का है बोझ|
दादुर भी अब मौन हुए,
अब नहीं पपीहे के बोल ||
…निधि…

4 Comments · 325 Views
You may also like:
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
प्रेम रस रिमझिम बरस
श्री रमण 'श्रीपद्'
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
धन्य है पिता
Anil Kumar
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
बुध्द गीत
Buddha Prakash
पिता
Kanchan Khanna
प्यार
Anamika Singh
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Satpallm1978 Chauhan
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...