Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं

ये उम्र के निशाँ नहीं दर्द की लकीरें हैं
ये होठ मेरे सूखे नहीं
रिसते लहू की है परत

बस अंत की बाट जोहती
आंखों में समुन्दर ना देख

ये गुजरे समय का रेगिस्तान है

Language: Hindi
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
।। आशा और आकांक्षा ।।
।। आशा और आकांक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*श्रीराम*
*श्रीराम*
Dr. Priya Gupta
kavita
kavita
Rambali Mishra
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
कौआ और कोयल (दोस्ती)
कौआ और कोयल (दोस्ती)
VINOD CHAUHAN
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
सापटी
सापटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आगे बढ़ने दे नहीं,
आगे बढ़ने दे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
*यदि चित्त शिवजी में एकाग्र नहीं है तो कर्म करने से भी क्या
Shashi kala vyas
आया खूब निखार
आया खूब निखार
surenderpal vaidya
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
काले काले बादल आयें
काले काले बादल आयें
Chunnu Lal Gupta
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
*प्रणय प्रभात*
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
इन रावणों को कौन मारेगा?
इन रावणों को कौन मारेगा?
कवि रमेशराज
महान क्रांतिवीरों को नमन
महान क्रांतिवीरों को नमन
जगदीश शर्मा सहज
शैलजा छंद
शैलजा छंद
Subhash Singhai
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
*नेता से चमचा बड़ा, चमचा आता काम (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
है जरूरी हो रहे
है जरूरी हो रहे
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
अपनी सूरत
अपनी सूरत
Dr fauzia Naseem shad
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
वक्त
वक्त
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
Men are just like books. Many will judge the cover some will
Men are just like books. Many will judge the cover some will
पूर्वार्थ
सावन बीत गया
सावन बीत गया
Suryakant Dwivedi
क्रिकेटफैन फैमिली
क्रिकेटफैन फैमिली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...