Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Sep 2022 · 1 min read

ये उम्मीद की रौशनी, बुझे दीपों को रौशन कर जातीं हैं।

क़ायनात की साजिशें कुछ यूँ भी रंग लातीं हैं,
की किसी अपने का साथ, मिटा कर चली जाती हैं।
वादे तोड़ने की कोशिशों में, जब नाक़ाम हो जातीं हैं,
तो सांसें चुराकर, बेख़ौफ़ मुस्कुराती हैं।
हंसती आँखों के सपनों को, बेवक़्त रौंद जातीं हैं,
और जीवन को स्याह रातों के, दलदल में छोड़ आतीं हैं।
रौशनी की आस में, नये अंधेरों में भटक जातीं हैं,
और फिर ज़िन्दगी, ज़िन्दगी के नाम से भी ख़ौफ़ खाती है।
उम्मीद की अंतिम डोर भी, जब आँखें चुरा कर चली जातीं हैं,
बस उसी पल वो आवाज़, हर बंधन तोड़ कानों में गूंज जाती है।
तेरी आँखों से हीं तो मेरी, सोई आँखें दुनिया देख पातीं हैं,
और तेरी मुस्कुराहटें, मेरे वज़ूद को ज़िंदा कर जातीं हैं।
क्यों मेरी यादें, तुम्हें इतना रुलाकर जातीं हैं,
जबकि मेरी सांसें तो, तेरी साँसों में हीं घुलकर जिये जातीं हैं।
ये उम्मीद की रौशनी बुझे दीपों को रौशन कर जातीं हैं,
और ज़िन्दगी को एक बार, फिर से जीने को आतुर हो जाती है।

4 Likes · 4 Comments · 328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
समाज के बदल दअ
समाज के बदल दअ
Shekhar Chandra Mitra
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर
Soniya Goswami
जल से निकली जलपरी
जल से निकली जलपरी
लक्ष्मी सिंह
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
प्रीति क्या है मुझे तुम बताओ जरा
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
मेरे 20 सर्वश्रेष्ठ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Ram Krishan Rastogi
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
ना भई ना, यह अच्छा नहीं ना
gurudeenverma198
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
कुछ अपने रूठे,कुछ सपने टूटे,कुछ ख़्वाब अधूरे रहे गए,
Vishal babu (vishu)
If you have someone who genuinely cares about you, respects
If you have someone who genuinely cares about you, respects
पूर्वार्थ
भाव और ऊर्जा
भाव और ऊर्जा
कवि रमेशराज
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
भाई
भाई
Kanchan verma
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
प्रेम निवेश है ❤️
प्रेम निवेश है ❤️
Rohit yadav
■ कौन बताएगा...?
■ कौन बताएगा...?
*Author प्रणय प्रभात*
"सुपारी"
Dr. Kishan tandon kranti
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
*जी रहें हैँ जिंदगी किस्तों में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
हंसने के फायदे
हंसने के फायदे
Manoj Kushwaha PS
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
2388.पूर्णिका
2388.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
*खाओ जामुन खुश रहो ,कुदरत का वरदान* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
तन्हा तन्हा ही चलना होगा
AMRESH KUMAR VERMA
हमे भी इश्क हुआ
हमे भी इश्क हुआ
The_dk_poetry
श्राद्ध
श्राद्ध
Mukesh Kumar Sonkar
तुम्हारे प्रश्नों के कई
तुम्हारे प्रश्नों के कई
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
!! शब्द !!
!! शब्द !!
Akash Yadav
Loading...