Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Aug 2023 · 1 min read

ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।

ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी,
खुशियों के जो चुराए लम्हें, उन्हें छीन ले जायेगी।
लहरों पर चलती ख़्वाहिशें, साहिलों से मिल पायेगी,
या गहराईयां समंदर की, इन्हें खुद में हीं समायेगी।
शामों के अंधेरों को, क्या सुबह की किरणें बुलायेगी,
या ओस की बूंदों को, ये घनी धुंध हीं सुखायेगी।
फूलों की ख़ुश्बू कभी, इस बाग़ को महकाएगी,
या पतझड़ में गिरे पत्ते हीं, इसके ग़लीचे सजायेगी।
खुले जख़्मों की क़िस्मत, कभी मरहम से टकरायेगी,
या भरने की चाहतें, घावों को और भी गहराएगी।
चौखट पर खड़े सपनों को, क्या ये आँखें अपनायेंगी,
या एक नींद की झलक को, ये रातें भी तरसाएगी।
जिंदगी शोर में गुम, ख़ामोश ईमारत बन रह जायेगी,
या खामोशी में छिपी गूँज, किसी ज़हन को जगायेगी।
ये टूटती उम्मीदें, साँसों को स्तब्ध कराएगी,
या शक्ति आस्था की, उस पाषाण को पिघलायेगी।
सवालों की बारिशें, इस धरती को कबतक भींगायेंगी,
कभी तो जवाबों की तलाश, मुझे मुझसे मिलायेगी।

1 Like · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
Himanshu Badoni (Dayanidhi)
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
वफ़ाओं का सिला कोई नहीं
अरशद रसूल बदायूंनी
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
डा. तुलसीराम और उनकी आत्मकथाओं को जैसा मैंने समझा / © डा. मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
तसल्ली मुझे जीने की,
तसल्ली मुझे जीने की,
Vishal babu (vishu)
संसद को जाती सड़कें
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
घबरा के छोड़ दे न
घबरा के छोड़ दे न
Dr fauzia Naseem shad
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
Love Is The Reason Behind
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
जातिगत भेदभाव
जातिगत भेदभाव
Shekhar Chandra Mitra
पहले प्यार में
पहले प्यार में
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
जीत
जीत
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
International Yoga Day
International Yoga Day
Tushar Jagawat
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रेम जब निर्मल होता है,
प्रेम जब निर्मल होता है,
हिमांशु Kulshrestha
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
*ज्ञानी की फटकार (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
■ बधाई
■ बधाई
*Author प्रणय प्रभात*
* सिला प्यार का *
* सिला प्यार का *
surenderpal vaidya
*जीवन जीने की कला*
*जीवन जीने की कला*
Shashi kala vyas
Ek jindagi ke sapne hajar,
Ek jindagi ke sapne hajar,
Sakshi Tripathi
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
💐प्रेम कौतुक-482💐
💐प्रेम कौतुक-482💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
#शिव स्तुति#
#शिव स्तुति#
rubichetanshukla 781
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
*जीवन सिखाता है लेकिन चुनौतियां पहले*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
Loading...