Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

यूंही सावन में तुम बुनबुनाती रहो

तुम यूंही सदा, मुस्कुराती रहो
तुम यूंही सदा, गुनगुनाती रहो
दूर तुमसे रहे, गम – ए – मौसम जुदा
यूंही सावन में, तुम बुनबुनाती रहो |

हो मोहब्बत भरा आशियाना तेरा
मेरे जैसा ना कोई, दीवाना तेरा
बंद रहने दो आँखें, ये जादू भरी
देख लेने दो जीभर, मुझे दो घड़ी
सुनु तारीफ तेरा ही, मैं हर तरफ
यूंही जुल्फें हवा में, उराती रहो | यूंही सावन…..

ऐसा लगता मुझे क्यों, कहीं ना कहीं
चांद में दाग है, पर तुझमें नही
जैसे फुर्सत में, रब ने बनाया तुझे
दुआ करता हु, रब खुशियों से भरे
हो सलामत तेरा, जिंदगी का सफर
तुम यूंही सदा, जगमगाती रहो | यूंही सावन……

✍️ बसंत भगवान राय

Language: Hindi
1 Like · 245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
*दही खाने के 15 अद्भुत चमत्कारी अमृतमयी फायदे...*
Rituraj shivem verma
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
*गीता के दर्शन में पुनर्जन्म की अवधारणा*
Ravi Prakash
अरब खरब धन जोड़िये
अरब खरब धन जोड़िये
शेखर सिंह
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
आँख खुलते ही हमे उसकी सख़्त ज़रूरत होती है
KAJAL NAGAR
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
आंख पर पट्टी बांधे ,अंधे न्याय तौल रहे हैं ।
Slok maurya "umang"
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
रणक्षेत्र बना अब, युवा उबाल
प्रेमदास वसु सुरेखा
विश्वास🙏
विश्वास🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
- रिश्तों को में तोड़ चला -
- रिश्तों को में तोड़ चला -
bharat gehlot
"प्रत्युत्तर"
*Author प्रणय प्रभात*
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मानवता
मानवता
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
इन आँखों को भी अब हकीम की जरूरत है..
Tarun Garg
शान्त हृदय से खींचिए,
शान्त हृदय से खींचिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चंद हाईकु
चंद हाईकु
Dr. Pradeep Kumar Sharma
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
खोज सत्य की जारी है
खोज सत्य की जारी है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"जरा सोचिए"
Dr. Kishan tandon kranti
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
उनकी ख्यालों की बारिश का भी,
manjula chauhan
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
परो को खोल उड़ने को कहा था तुमसे
ruby kumari
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
*नमस्तुभ्यं! नमस्तुभ्यं! रिपुदमन नमस्तुभ्यं!*
Poonam Matia
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
कैसे?
कैसे?
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
यादों का झरोखा
यादों का झरोखा
Madhavi Srivastava
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
Loading...