Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2017 · 2 min read

🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए

🧿
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो ऐसा विज्ञान चाहिए
जो सोए है उने जगाने का संकल्प महान चाहिए
क्षिति नायक तेरे दुखिया मन में प्रकटे जैसे प्रसन्नता
अब मुझको ऐसे विचार मंथन का रण अविराम चाहिए

🧿
हे आभा के पुंज ,नींद को त्यागो शुचि निर्मल वितान हो
उर- अंदर देवत्व छिपा है, इसे जगाओ ब्रम्हज्ञान हो
आत्मा ही अव्यक्त ब्रह्म है इसे व्यक्त कर लक्ष्य पाइए
कुंडलिनी के चक्र जगाने वाला योग-विधान चाहिए
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो ऐसा विज्ञान चाहिए

🧿
सभी प्राणियों में ईश्वरमय आत्मतत्व का शुभ दर्शन हो
मानव,मानव के समीप हो सत्य- प्रेम का संवर्धन हो
निर्बलता को त्याग बढो- जागो तुम शंखनाद कर डालो
जीवित शव में प्राण फूक दे, ऐसा अनुसंधान चाहिए
यौवन अतिशय ज्ञान- तेजमय हों ऐसा विज्ञान चाहिए

🧿
मलिन रहे न कोई, हर एक ब्रह्मणत्व के दर्शन कर ले
जो निज को पहचान जगे वह , दिव्य ज्ञान-संवर्धन कर ले
मेंढक बनकर पड़े, कुए को समझ रहे संपूर्ण विश्व हम
बाहर लाकर इने जगा दे ,ऐसे मनुज महान चाहिए
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हों, ऐसा विज्ञान चाहिए
जो सोए हैं उने ,जगाने का संकल्प महान चाहिए ।
—————————————-

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति की रचना।

● उक्त रचना को “जागा हिंदुस्तान चाहिए काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।
●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण साहित्यपिडिया पब्लिसिंग से प्रकाशित है तथा अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

,● उक्त रचना का आकाशवाणी छतरपुर से काव्य पाठ प्रसारित हो चुका है

Language: Hindi
6 Likes · 3 Comments · 1500 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Pt. Brajesh Kumar Nayak
View all
You may also like:
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*Author प्रणय प्रभात*
संगीत
संगीत
Vedha Singh
समंदर
समंदर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहार
कहार
Mahendra singh kiroula
"दरख़्त"
Dr. Kishan tandon kranti
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
2629.पूर्णिका
2629.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
The Present War Scenario and Its Impact on World Peace and Independent Co-existance
Shyam Sundar Subramanian
चश्मा,,,❤️❤️
चश्मा,,,❤️❤️
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा  तेईस
खट्टी-मीठी यादों सहित,विदा हो रहा तेईस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
खाने को पैसे नहीं,
खाने को पैसे नहीं,
Kanchan Khanna
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
बड़बोले बढ़-बढ़ कहें, झूठी-सच्ची बात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
निरक्षता
निरक्षता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
त्रिशरण गीत
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
*सरल सुकोमल अन्तर्मन ही, संतों की पहचान है (गीत)*
*सरल सुकोमल अन्तर्मन ही, संतों की पहचान है (गीत)*
Ravi Prakash
बादल और बरसात
बादल और बरसात
Neeraj Agarwal
शिवरात्रि
शिवरात्रि
ऋचा पाठक पंत
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
💐💐प्रेम की राह पर-73💐💐
💐💐प्रेम की राह पर-73💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
ज़िंदगी में गीत खुशियों के ही गाना दोस्तो
Dr. Alpana Suhasini
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
If I become a doctor, I will open hearts of 33 koti people a
Ankita Patel
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...