Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2017 · 1 min read

यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए

यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो ऐसा विज्ञान चाहिए
जो सोए है उने जगाने का संकल्प महान चाहिए
क्षिति नायक तेरे दुखिया मन में प्रकटे जैसे प्रसन्नता
अब मुझको ऐसे विचार मंथन का रण अविराम चाहिए

हे आभा के पुंज ,नींद को त्यागो शुचि निर्मल वितान हो
उर- अंदर देवत्व छिपा है, इसे जगाओ ब्रम्हज्ञान हो
आत्मा ही अव्यक्त ब्रह्म है इसे व्यक्त कर लक्ष्य पाइए
कुंडलिनी के चक्र जगाने वाला योग-विधान चाहिए
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो ऐसा विज्ञान चाहिए

सभी प्राणियों में ईश्वरमय आत्मतत्व का शुभ दर्शन हो
मानव,मानव के समीप हो सत्य- प्रेम का संवर्धन हो
निर्बलता को त्याग बढो- जागो तुम शंखनाद कर डालो
जीवित शव में प्राण फूक दे, ऐसा अनुसंधान चाहिए
यौवन अतिशय ज्ञान- तेजमय हों ऐसा विज्ञान चाहिए

मलिन रहे न कोई, हर एक ब्रह्मणत्व के दर्शन कर ले
जो निज को पहचान जगे वह , दिव्य ज्ञान-संवर्धन कर ले
मेंढक बनकर पड़े, कुए को समझ रहे संपूर्ण विश्व हम
बाहर लाकर इने जगा दे ,ऐसे मनुज महान चाहिए
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हों, ऐसा विज्ञान चाहिए
जो सोए हैं उने ,जगाने का संकल्प महान चाहिए ।
—————————————-

बृजेश कुमार नायक
“जागा हिंदुस्तान चाहिए” एवं “क्रौंच सुऋषि आलोक” कृतियों के प्रणेता

●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” कृति की रचना।

● उक्त रचना को “जागा हिंदुस्तान चाहिए काव्य संग्रह के द्वितीय संस्करण के अनुसार परिष्कृत किया गया है।
●”जागा हिंदुस्तान चाहिए” काव्य संग्रह का द्वितीय संस्करण साहित्यपिडिया पब्लिसिंग से प्रकाशित है तथा अमेजोन और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है।

,● उक्त रचना का आकाशवाणी छतरपुर से काव्य पाठ प्रसारित हो चुका है

4 Likes · 3 Comments · 704 Views
You may also like:
पिता
Kanchan Khanna
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
पिता
Neha Sharma
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
माँ
आकाश महेशपुरी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
संघर्ष
Sushil chauhan
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
Loading...