Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 2 min read

युग युवा

बुझे तीर में धार नहीं जंग खाई तलवार में मार नहीं जरुरी नहीं सांसो धड़कन का आदमी इंसान जिन्दा हो
पुतला भो हो सकता है पुतलों के
कदमो की चाल आवाज नहीं आती।।

जिन्दा आदमी उद्देश्यों के आसमान में उड़ता बाज़ अवनि की हद हस्ती मस्ती गरिमा का जाबांज।।

जिसके तरकस के बुझते तीर नहीं जिसके तलवारे जंग नहीं खाती।।

जिसके उद्देश्यों के पथ पर नहीं आती बाधा जिसके पथ पर अंधेरो का रहता नहीं नामो निशान।।

जिसके कदमों की आहट को लेता
समय काल पहचान।।

जिसकी सक्रियता का वर्तमान पीढ़ियों का प्रेरक प्रसंग प्रेरणा का युग में प्रमाण।।

जन्म मृत्यु के मध्य का भेद मिटा
रहता सदा वर्तमान गर चाहो गिनना नाम ।।

थक जाओगे परम् शक्ति सत्ता ईश्वर
की रचना का मानव ईश्वर
का प्रतिनिधि पराक्रम का परम प्रकाश।।

युग मानवता कहती पता नहीं दुनियां खुद उसको चल पड़ा किस पथ पर धरा धन्य युग में कहाँ पड़ाव।।

चलता जाता निष्काम कर्म के पथ पर छड़ भंगुर पल दो पल की सांसो धड़कन के संग अकेला निर्धारित करने एक नया आयाम।।

गुजर जाता जिधर से बूत पुतलो
में आ जाता अपने होने का विश्वाश।।

जड़ को भी चेतन कर देता सृष्टि
सार्थक का मानव कहता कोई महान कोई कहता शूरबीर जाने क्या क्या कहती दुनियां लेकिन निर्मल निर्झर निर्विकार चलता जाता अपनी
धुन में नए जागरण जाग्रति का
सदा वर्तमान।।

जिन्दा हो जागती कब्रों की रूहे शमशान के मुर्द्रे भी जीवित
हो जाते ।

बुझे तीर को देता नई धार जंग लगी तलवारों से भी लड़ता जीवन का संग्राम कभी अतीत नहीं ह्रदय ह्रदय में जीवित का आदर भाव युग तेज का शौर्य सूर्य नित्य निरंतर प्रवाह।।

नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर गोरखपुर उत्तर प्रदेश।।

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
पिता
पिता
Shweta Soni
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
नारी शक्ति का सम्मान🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Sushila joshi
मैं तो महज क़ायनात हूँ
मैं तो महज क़ायनात हूँ
VINOD CHAUHAN
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
I Have No Desire To Be Found At Any Cost
Manisha Manjari
मां
मां
Dr.Priya Soni Khare
तू है
तू है
Satish Srijan
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
उससे तू ना कर, बात ऐसी कभी अब
gurudeenverma198
"हार व जीत तो वीरों के भाग्य में होती है लेकिन हार के भय से
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
बुंदेली दोहा-
बुंदेली दोहा- "पैचान" (पहचान) भाग-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2403.पूर्णिका
2403.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
*बना शहर को गई जलाशय, दो घंटे बरसात (गीत)*
Ravi Prakash
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
"बेटा-बेटी"
पंकज कुमार कर्ण
अद्भुत प्रेम
अद्भुत प्रेम
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
पछतावे की अग्नि
पछतावे की अग्नि
Neelam Sharma
मेरे पिता मेरा भगवान
मेरे पिता मेरा भगवान
Nanki Patre
"माटी-तिहार"
Dr. Kishan tandon kranti
पत्रकार की कलम देख डरे
पत्रकार की कलम देख डरे
Neeraj Mishra " नीर "
" फ़ौजी"
Yogendra Chaturwedi
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
Loading...