Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 2 min read

“यादों के झरोखे से”

“यादों के झरोखे से”..
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

“यादों के झरोखे से”, मैं क्या-क्या बताऊॅं,
क्या-क्या याद करूॅं और क्या भूल जाऊॅं।

अपना बचपन था,जैसे समुंदर की हों लहरें;
मस्ती थी, सस्ती; बगीचों में गुजरती दोपहरें;
निकलते थे,सब ही अपने ‘घरों’ से ‘धोखे’ से;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

‘दोस्त’ ही होते थे, सदा असली सलाहकार;
‘दोस्ती’ थी गहरी, आपस में था खूब प्यार।
सबमें सदा खूब, ‘हसीं-मजाक’ भी होते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

‘स्कूलों’ में था ना,किसी की ‘जाति’ का पता;
ना ही था वहां , कोई ‘धर्म’ का ही ‘ठिकाना’;
आपस में सब , लड़ते भी कभी ‘अनोखे’ से;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

तब सब ही थे , बस एक दूजे का ‘दीवाना’;
निज सुख-दुःख में,सब साथ हॅंसते-रोते थे;
बर्फ, पाचक और बैर भी मिल बाॅंट खाते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

अलग उमंग था, जब ‘स्कूल’ में ‘लट्टू’ नचाते थे;
अठन्नी-चौवन्नी ही,कभी-कभी स्कूल ले जाते थे;
भिखारी भी खुश हो जाते, दो पैसों के भीखों से;
आज याद आई है ये बात,”यादों के झरोखों से”।

‘पढ़ाई’ का सबमें, तब अलग ही ‘जज्बा’ था;
पढ़ने वालों का ही, ‘समाज’ पर ‘कब्जा’ था;
उन्हें देखकर , सब ही खुशी से झूम जाते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

तब माहौल तो था , सड़कों पे भी शांति का;
सिर्फ ‘दूरदर्शन’ था,देखते किस्सा शांति का;
‘रंगोली’और ‘रामायण’भी,खूब देखे जाते थे;
आज याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

कुछ लाने होते थे,न पास कहीं बड़ी दुकान थी;
हमेशा तो पैदल या साइकिल की ही,उड़ान थी;
न बड़े मकान थे,फूसों में ही खुशी सब सोते थे;
फिर से याद आई ये बात,”यादों के झरोखे से”।

और क्या, “यादों के झरोखे से” भला बताऊं;
आखिर क्यों मैं ही, खुद के यादों को सताऊं…..

आखिर क्यों मैं ही, खुद के यादों को सताऊं………
************************************

स्वरचित सह मौलिक;
……✍️पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।

Language: Hindi
1 Like · 114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-489💐
💐प्रेम कौतुक-489💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
खुदा रखे हमें चश्मे-बद से सदा दूर...
shabina. Naaz
टूटेगा एतबार
टूटेगा एतबार
Dr fauzia Naseem shad
■ नई महाभारत..
■ नई महाभारत..
*Author प्रणय प्रभात*
क्रिकेट का पिच,
क्रिकेट का पिच,
Punam Pande
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
तेवरी आन्दोलन की साहित्यिक यात्रा *अनिल अनल
कवि रमेशराज
संत एकनाथ महाराज
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
मेरा फलसफा
मेरा फलसफा
umesh mehra
मौन
मौन
निकेश कुमार ठाकुर
Outsmart Anxiety
Outsmart Anxiety
पूर्वार्थ
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Ram Babu Mandal
Tlash
Tlash
Swami Ganganiya
औरतें ऐसी ही होती हैं
औरतें ऐसी ही होती हैं
Mamta Singh Devaa
बरकत का चूल्हा
बरकत का चूल्हा
Ritu Asooja
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
रातो ने मुझे बहुत ही वीरान किया है
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
*नशा करोगे राम-नाम का, भवसागर तर जाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
कुछ हासिल करने तक जोश रहता है,
Deepesh सहल
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम बच्चों की आई होली
हम बच्चों की आई होली
लक्ष्मी सिंह
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
सरकारी
सरकारी
Lalit Singh thakur
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
"भीमसार"
Dushyant Kumar
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Loading...