Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Sep 2017 · 1 min read

यादों की गठरी

सपनो के ताने बाने है
कुछ अरमान पुराने है
इक यादों की गठरी है
जिसमे जज्बात पुराने है
कुछ वादो की टूटन है
कुछ ख्वाबों की किरचन है
सब देख समझ कर रख लेना

कुछ नमी लगे तो रो लेना
यादो की गठरी तुम तक लेना
मै वहीं कहीं दिख जाउंगी
तुम अश्को से मुँह धोगे जब
मै ऑखो से बह जाउगी

वक्त विमुख है सह लेना
यादों की सिलवट तह लेना
जब सारा जग सो जाएगा
जब चंदा भी आ जाएगा
तुम बाट ख्वाब के जोह लेना
मै वही तुम्हे मिल जाउंगी
चिर तुममे मै खो जाउंगी
मै वही तुम्हे मिल पाउंगी

Language: Hindi
1 Like · 334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
Suryakant Dwivedi
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
गांधीजी का भारत
गांधीजी का भारत
विजय कुमार अग्रवाल
मूर्दों की बस्ती
मूर्दों की बस्ती
Shekhar Chandra Mitra
"बच्चे "
Slok maurya "umang"
पिला रही हो दूध क्यों,
पिला रही हो दूध क्यों,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
My City
My City
Aman Kumar Holy
संवेग बने मरणासन्न
संवेग बने मरणासन्न
प्रेमदास वसु सुरेखा
जग में अच्छे वह रहे, जिन पर कोठी-कार (कुंडलिया)*
जग में अच्छे वह रहे, जिन पर कोठी-कार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
खुद ही परेशान हूँ मैं, अपने हाल-ऐ-मज़बूरी से
डी. के. निवातिया
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
विमला महरिया मौज
हासिल नहीं है कुछ
हासिल नहीं है कुछ
Dr fauzia Naseem shad
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
अर्चना की कुंडलियां भाग 2
Dr Archana Gupta
बीमार घर/ (नवगीत)
बीमार घर/ (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सृजन तेरी कवितायें
सृजन तेरी कवितायें
Satish Srijan
रास्तों पर चलते-चलते
रास्तों पर चलते-चलते
VINOD CHAUHAN
दौलत
दौलत
Neeraj Agarwal
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
कौन कहता है ज़ज्बात के रंग होते नहीं
Shweta Soni
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
वो ही तो यहाँ बदनाम प्यार को करते हैं
gurudeenverma198
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
तुम - हम और बाजार
तुम - हम और बाजार
Awadhesh Singh
सीता छंद आधृत मुक्तक
सीता छंद आधृत मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
हर एक अवसर से मंजर निकाल लेता है...
कवि दीपक बवेजा
Loading...