Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

यादों की गठरी

सपनो के ताने बाने है
कुछ अरमान पुराने है
इक यादों की गठरी है
जिसमे जज्बात पुराने है
कुछ वादो की टूटन है
कुछ ख्वाबों की किरचन है
सब देख समझ कर रख लेना

कुछ नमी लगे तो रो लेना
यादो की गठरी तुम तक लेना
मै वहीं कहीं दिख जाउंगी
तुम अश्को से मुँह धोगे जब
मै ऑखो से बह जाउगी

वक्त विमुख है सह लेना
यादों की सिलवट तह लेना
जब सारा जग सो जाएगा
जब चंदा भी आ जाएगा
तुम बाट ख्वाब के जोह लेना
मै वही तुम्हे मिल जाउंगी
चिर तुममे मै खो जाउंगी
मै वही तुम्हे मिल पाउंगी

1 Like · 189 Views
You may also like:
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Dr.Priya Soni Khare
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पंचशील गीत
Buddha Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta
दहेज़
आकाश महेशपुरी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
पिता
Satpallm1978 Chauhan
Loading...