Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-442💐

यह सब ज़िंदगी है और ज़िंदगी के किस्से,
सब बयाँ कर रहें हैं यहाँ,अपने हिस्से-हिस्से,
कोई अन्दर से ख़ामोश है कोई बाहर से भी,
कुछ साथ न जाएगा,ये हैं ज़िंदगी के क़िस्से।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
पिता (मर्मस्पर्शी कविता)
Dr. Kishan Karigar
माँ!
माँ!
विमला महरिया मौज
'धोखा'
'धोखा'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
जमाने की अगर कह दूँ, जमाना रूठ जाएगा ।
Ashok deep
उसकी एक नजर
उसकी एक नजर
Sahil
तो शीला प्यार का मिल जाता
तो शीला प्यार का मिल जाता
Basant Bhagwan Roy
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
पूजा नहीं, सम्मान दें!
पूजा नहीं, सम्मान दें!
Shekhar Chandra Mitra
ताशीर
ताशीर
Sanjay
तुम मन मंदिर में आ जाना
तुम मन मंदिर में आ जाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
सुबह की आहटें
सुबह की आहटें
Ranjana Verma
ये धोखेबाज लोग
ये धोखेबाज लोग
gurudeenverma198
■ आज की प्रेरणा
■ आज की प्रेरणा
*Author प्रणय प्रभात*
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
जय माता दी 🙏
जय माता दी 🙏
Anil Mishra Prahari
वीरगति
वीरगति
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
*मिलाओ एक टेलीफोन, तो झगड़ा निपट जाए (मुक्तक)*
*मिलाओ एक टेलीफोन, तो झगड़ा निपट जाए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
परमपूज्य स्वामी रामभद्राचार्य जी महाराज
मनोज कर्ण
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
आपके अन्तर मन की चेतना अक्सर जागृत हो , आपसे , आपके वास्तविक
Seema Verma
नहीं लगता..
नहीं लगता..
Rekha Drolia
चूड़ियाँ
चूड़ियाँ
लक्ष्मी सिंह
चित्र गुप्त पूजा
चित्र गुप्त पूजा
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐प्रेम कौतुक-477💐
💐प्रेम कौतुक-477💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पर्वतों का रूप धार लूंगा मैं
पर्वतों का रूप धार लूंगा मैं
कवि दीपक बवेजा
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Dr.Priya Soni Khare
*मेरे पापा*
*मेरे पापा*
Shashi kala vyas
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er Sanjay Shrivastava
मैं और मेरा
मैं और मेरा
Pooja Singh
Loading...