Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

यह नफरत बुरी है ना पालो इसे

यह नफरत बुरी है ना पालो इसे
दिलों में खलिश है निकालो इसे–यह नफरत
न तेरा न मेरा न इसका न उसका
है सबका वतन ये बचा लो इसे–यह नफरत
हमीं हैं सहारा इस प्यारे वतन का
मजबूत कंधों पर उठा लो इसे–यह नफरत
गिरी साख इसकी है नेतागिरी से
लड़खड़ाया वतन सम्भालो इसे–यह नफरत
बुझा बैठे हो क्यों दिल का दीपक
ज्ञान की बाती से जला लो इसे–यह नफरत
न देखो धर्म और जाति किसी की
तुम अपने गले से लगा लो इसे–यह नफरत
करना है जो आज न सोचो ज्यादा
कल पर कभी भी ना टालो इसे–यह नफरत
न अपमान किसी का करना ज़ुबाॅ॑ से
मीठी ही मीठी बस बना लो इसे–यह नफरत
करो कर्म मेहनत जी जान से तुम
आदर्श जीवन का बना लो इसे–यह नफरत
ना तिरंगे को झुकाने देना कभी भी
सिर से भी ऊॅ॑चा उठा लो इसे–यह नफरत

3 Likes · 77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
*मैं वर्तमान की नारी हूं।*
Dushyant Kumar
All you want is to see me grow
All you want is to see me grow
Ankita Patel
मुझे अधूरा ही रहने दो....
मुझे अधूरा ही रहने दो....
Santosh Soni
बेवक़ूफ़
बेवक़ूफ़
Otteri Selvakumar
' नये कदम विश्वास के '
' नये कदम विश्वास के '
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
गुरुजन को अर्पण
गुरुजन को अर्पण
Rajni kapoor
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
प्रेम की साधना (एक सच्ची प्रेमकथा पर आधारित)
दुष्यन्त 'बाबा'
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की बच्चा विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
" मेरे प्यारे बच्चे "
Dr Meenu Poonia
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
मेरी गुड़िया (संस्मरण)
Kanchan Khanna
2399.पूर्णिका
2399.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
पूरा दिन जद्दोजहद में गुजार देता हूं मैं
शिव प्रताप लोधी
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
*घर में बैठे रह गए , नेता गड़बड़ दास* (हास्य कुंडलिया
Ravi Prakash
इतना भी खुद में
इतना भी खुद में
Dr fauzia Naseem shad
🙅कमिंग सून🙅
🙅कमिंग सून🙅
*Author प्रणय प्रभात*
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
स्याह एक रात
स्याह एक रात
हिमांशु Kulshrestha
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
कुछ काम करो , कुछ काम करो
कुछ काम करो , कुछ काम करो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जीवन का सबूत"
Dr. Kishan tandon kranti
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
तेरी आवाज़ क्यूं नम हो गई
Surinder blackpen
नादानी
नादानी
Shaily
बुझे अलाव की
बुझे अलाव की
Atul "Krishn"
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...