Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 1, 2016 · 1 min read

यह कौन आया

यह कौन आया
छेड़ दिए दिल के तार
दिल से निकली आहट
वर्षों से तलाश थी जिसकी
दिल में सिमटी यादें ताजा होकर
चल पड़ी मस्तिष्क की ओर
और मस्तिष्क ने उठा दिया
उस नींद से
जिसमें सोते हुए जाग रहा था मैं
अब आंखे भी खुल चुकी थी
दिल और आंखों के मिलन के बाद
स्थिति बिलकुल साफ हो गई
और मेरे मस्तिष्क ने बता दिया
अरे भाई सो जाओ यह तो
सपना था, जो पूरा न हुआ
अब बार बार आता है तुम्हारी नींदों में
क्योंकि जब तुम जागते हो,
तो तुम्हारी आंखें उसको देख लेती है
इसलिए वह आता है चुपके से
तुम्हारी नींदों में ताकि तुम पहचान न सको
एक और जरूरी बात मेरे मस्तिष्क ने बताई
अब तुम कभी खुली आंखों से सपने मत देखना
जो भी सोचो उसको साकार करने का प्रयास करो
नहीं तो वह फिर आएगा तुम्हारी नींदों में
और तुम हर बार यही कहते रह जाओगे
यह कौन आया जिसने छेड़ दिए दिल के तार.

179 Views
You may also like:
If we could be together again...
Abhineet Mittal
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
पिता
Shankar J aanjna
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आदर्श पिता
Sahil
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
सुन्दर घर
Buddha Prakash
अनमोल राजू
Anamika Singh
इंतजार
Anamika Singh
पिता
Kanchan Khanna
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
पिता
Ram Krishan Rastogi
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
Loading...