Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

यह कौन आया

यह कौन आया
छेड़ दिए दिल के तार
दिल से निकली आहट
वर्षों से तलाश थी जिसकी
दिल में सिमटी यादें ताजा होकर
चल पड़ी मस्तिष्क की ओर
और मस्तिष्क ने उठा दिया
उस नींद से
जिसमें सोते हुए जाग रहा था मैं
अब आंखे भी खुल चुकी थी
दिल और आंखों के मिलन के बाद
स्थिति बिलकुल साफ हो गई
और मेरे मस्तिष्क ने बता दिया
अरे भाई सो जाओ यह तो
सपना था, जो पूरा न हुआ
अब बार बार आता है तुम्हारी नींदों में
क्योंकि जब तुम जागते हो,
तो तुम्हारी आंखें उसको देख लेती है
इसलिए वह आता है चुपके से
तुम्हारी नींदों में ताकि तुम पहचान न सको
एक और जरूरी बात मेरे मस्तिष्क ने बताई
अब तुम कभी खुली आंखों से सपने मत देखना
जो भी सोचो उसको साकार करने का प्रयास करो
नहीं तो वह फिर आएगा तुम्हारी नींदों में
और तुम हर बार यही कहते रह जाओगे
यह कौन आया जिसने छेड़ दिए दिल के तार.

Language: Hindi
260 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुशी(👇)
खुशी(👇)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बेशक खताये बहुत है
बेशक खताये बहुत है
shabina. Naaz
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
" वर्ष 2023 धमाकेदार होगा बालीवुड बाक्स आफ़िस के लिए "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर हो हिंदी का देश में
अगर हो हिंदी का देश में
Dr Manju Saini
बरसात की रात
बरसात की रात
Surinder blackpen
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"जिरह"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का रंगमंच
जीवन का रंगमंच
Harish Chandra Pande
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
* वेदना का अभिलेखन : आपदा या अवसर *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
जीवन देने के दांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
The Profound Impact of Artificial Intelligence on Human Life
Shyam Sundar Subramanian
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
तू नहीं तो कौन?
तू नहीं तो कौन?
bhandari lokesh
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
चांद जैसे बादलों में छुपता है तुम भी वैसे ही गुम हो
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
इंसान फिर भी
इंसान फिर भी
Dr fauzia Naseem shad
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेचैन हम हो रहे
बेचैन हम हो रहे
Basant Bhagawan Roy
नरेंद्र
नरेंद्र
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परोपकार का भाव
परोपकार का भाव
Buddha Prakash
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
मनोज कर्ण
बीड़ी की बास
बीड़ी की बास
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ईनाम
ईनाम
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
लिफाफे में दिया क्या है (मुक्तक)
Ravi Prakash
अन्हरिया रात
अन्हरिया रात
Shekhar Chandra Mitra
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
Loading...