Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

सम्मान

यदि आप दूसरों का सम्मान करेंगे तो लोग भी कल आपका सम्मान करेंगे।

Paras Nath Jha

162 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2806. *पूर्णिका*
2806. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राजाराम मोहन राॅय
राजाराम मोहन राॅय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
राखी की यह डोर।
राखी की यह डोर।
Anil Mishra Prahari
SCHOOL..
SCHOOL..
Shubham Pandey (S P)
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
एक पिता की पीर को, दे दो कुछ भी नाम।
Suryakant Dwivedi
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
******जय श्री खाटूश्याम जी की*******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
*जीवन में जब कठिन समय से गुजर रहे हो,जब मन बैचेन अशांत हो गय
Shashi kala vyas
इंटरनेट
इंटरनेट
Vedha Singh
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है
यदि है कोई परे समय से तो वो तो केवल प्यार है " रवि " समय की रफ्तार मेँ हर कोई गिरफ्तार है
Sahil Ahmad
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
पाश्चात्य विद्वानों के कविता पर मत
कवि रमेशराज
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
कह पाना मुश्किल बहुत, बातें कही हमें।
surenderpal vaidya
नारी
नारी
विजय कुमार अग्रवाल
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चार लाइनर विधा मुक्तक
चार लाइनर विधा मुक्तक
Mahender Singh
#शारदीय_नवरात्रि
#शारदीय_नवरात्रि
*Author प्रणय प्रभात*
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बाँध लू तुम्हें......
बाँध लू तुम्हें......
Dr Manju Saini
भगतसिंह
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*
*मिटा-मिटा लो मिट गया, सदियों का अभिशाप (छह दोहे)*
Ravi Prakash
शिव शून्य है,
शिव शून्य है,
पूर्वार्थ
सॉप और इंसान
सॉप और इंसान
Prakash Chandra
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
मैं तुम्हारे ख्वाबों खयालों में, मद मस्त शाम ओ सहर में हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
*** तूने क्या-क्या चुराया ***
Chunnu Lal Gupta
Loading...