Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2017 · 1 min read

!!! मोहोब्बत !!

मोहोब्बत की दुश्मन नहीं
है ये दुनिया
वो सब समझती है
किसी की बर्बादी
कहीं हो न जाए
इसी लिए पीछा करती है दुनिया !!

यह सच है, कि प्यार करने वाले
छुप छुप के मिलते हैं
अकेले में खुली बगिया में
कुछ अलग सी हरकत करते हैं
सब पर उस का असर न पड़ जाए
तभी तो कुछ कहने को मजबूर है दुनिया !!

प्यार की भाषा अब कहीं नहीं
यूं ही बदनाम हो रहे हैं प्यार करने वाले
जिस्म की आग की तरफ आकर्षित हैं
तभी तो एकान्त की तरफ वो बढ़ते हैं
कुछ गलत न हो जाए किसी के साथ
बस उसी को बचाने भाग देती है दुनिया !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
513 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
कोई भी मजबूरी मुझे लक्ष्य से भटकाने में समर्थ नहीं है। अपने
Ramnath Sahu
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
इक ज़मीं हो
इक ज़मीं हो
Monika Arora
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
मुख्तलिफ होते हैं ज़माने में किरदार सभी।
Phool gufran
😊😊
😊😊
*प्रणय प्रभात*
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
विचारों में मतभेद
विचारों में मतभेद
Dr fauzia Naseem shad
सब्र रख
सब्र रख
VINOD CHAUHAN
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
बड़ी अजब है प्रीत की,
बड़ी अजब है प्रीत की,
sushil sarna
बदलना न चाहने वाले को आप कभी बदल नहीं सकते ठीक उसी तरह जैसे
बदलना न चाहने वाले को आप कभी बदल नहीं सकते ठीक उसी तरह जैसे
पूर्वार्थ
विचार और भाव-2
विचार और भाव-2
कवि रमेशराज
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
(13) हाँ, नींद हमें भी आती है !
Kishore Nigam
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
"उदास सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
*भारत माता के लिए , अनगिन हुए शहीद* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
प्रेरणा
प्रेरणा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
দিগন্তে ছেয়ে আছে ধুলো
Sakhawat Jisan
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
यारों की आवारगी
यारों की आवारगी
The_dk_poetry
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
ग़ज़ल- हूॅं अगर मैं रूह तो पैकर तुम्हीं हो...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
Loading...