Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2024 · 1 min read

मोबाइल भक्ति

काम क्रोध मद लोभ ज्यों
नाथ नरक के पंथ।
रामायण में लिख गए,
तुलसी जैसे सन्त।

तुलसी जैसे सन्त,
आज त्यों और एक व्याधी।
मोबाइल संग लग रही,
जन की पूर्ण समाधी।

ऊँगली नाचे अनवरत,
मोबाइल करे बाध्य।
इंस्टा, ट्वीटर फेशबुक,
बन गया रोग असाध्य।

यू ट्यूब बन गया पूजा स्थल,
जन मानस यजमान।
सब को दर्शन मिल रहा,
गूगल है भगवान।

सोशल मीडिया धाम पर,
सभी धर्म के भक्त।
रिश्ते नाते दोस्त तज,
फोन पर सभी विरक्त।

मोबाइल प्रयोग हो,
मतलब भर प्रिय सन्तम।
कह सृजन कविराय,
व्यसन का कीजै अंतम।

Language: Hindi
140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
*तुलसीदास (कुंडलिया)*
*तुलसीदास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुनूनी दिल
जुनूनी दिल
Sunil Maheshwari
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
*पिता*...
*पिता*...
Harminder Kaur
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
■ जैसी करनी, वैसी भरनी।।
*Author प्रणय प्रभात*
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
अभिव्यञ्जित तथ्य विशेष नहीं।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
कल रहूॅं-ना रहूॅं..
पंकज कुमार कर्ण
"पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
फिसल गए खिलौने
फिसल गए खिलौने
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
विषय :- रक्त रंजित मानवीयता रस-वीभत्स रस विधा-मधुमालती छंद आधारित गीत मापनी-2212 , 2212
Neelam Sharma
3206.*पूर्णिका*
3206.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तस्वीर
तस्वीर
Dr. Mahesh Kumawat
जीवन के आधार पिता
जीवन के आधार पिता
Kavita Chouhan
मुझे अच्छी नहीं लगती
मुझे अच्छी नहीं लगती
Dr fauzia Naseem shad
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
राम राम
राम राम
Sonit Parjapati
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
आऊँगा कैसे मैं द्वार तुम्हारे
gurudeenverma198
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
चौथापन
चौथापन
Sanjay ' शून्य'
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
महापुरुषों की मूर्तियां बनाना व पुजना उतना जरुरी नहीं है,
शेखर सिंह
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
(((((((((((((तुम्हारी गजल))))))
Rituraj shivem verma
Loading...