Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 17, 2016 · 1 min read

मोक्ष भी

काव्य साधना न व्यर्थ है कभी सदैव जान
ये मनुष्य को सदा मनुष्यता सिखाती हैI
शारदा कृपा विशेष हो तभी मिले कवित्व
छन्दसिद्धि देवतुल्य आज भी बनाती हैI
दीन या निराश चित्त में यही भरे उमंग
और अंग अंग मध्य चेतना जगाती हैI
छन्द शास्त्र ज्ञान युक्त जो हुआ प्रवीण मित्र
ये विधा महान मोक्ष भी उसे दिलाती हैII
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

250 Views
You may also like:
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
धन्य है पिता
Anil Kumar
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
मेरे साथी!
Anamika Singh
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
Loading...