Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

मोक्ष भी

काव्य साधना न व्यर्थ है कभी सदैव जान
ये मनुष्य को सदा मनुष्यता सिखाती हैI
शारदा कृपा विशेष हो तभी मिले कवित्व
छन्दसिद्धि देवतुल्य आज भी बनाती हैI
दीन या निराश चित्त में यही भरे उमंग
और अंग अंग मध्य चेतना जगाती हैI
छन्द शास्त्र ज्ञान युक्त जो हुआ प्रवीण मित्र
ये विधा महान मोक्ष भी उसे दिलाती हैII
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

Language: Hindi
375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमें आशिकी है।
हमें आशिकी है।
Taj Mohammad
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
जागो तो पाओ ; उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
*** आकांक्षा : आसमान की उड़ान..! ***
VEDANTA PATEL
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
*साठ साल के हुए बेचारे पतिदेव (हास्य व्यंग्य)*
*साठ साल के हुए बेचारे पतिदेव (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
एक ही पक्ष में जीवन जीना अलग बात है। एक बार ही सही अपने आयाम
पूर्वार्थ
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
रिवायत
रिवायत
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
नवयुग का भारत
नवयुग का भारत
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
अदब
अदब
Dr Parveen Thakur
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
💐💐किं विचारणीय:?💐💐
💐💐किं विचारणीय:?💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
तू मेरी हीर बन गई होती - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
सेना सर्व धर्म स्थल में
सेना सर्व धर्म स्थल में
Satish Srijan
"राखी के धागे"
Ekta chitrangini
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
गुब्बारा
गुब्बारा
लक्ष्मी सिंह
"REAL LOVE"
Dushyant Kumar
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
कुछ लोगों का प्यार जिस्म की जरुरत से कहीं ऊपर होता है...!!
Ravi Betulwala
भाव अंजुरि (मैथिली गीत)
भाव अंजुरि (मैथिली गीत)
मनोज कर्ण
हिसाब
हिसाब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
पी रहा हूं मै नजरो से
पी रहा हूं मै नजरो से
Ram Krishan Rastogi
Loading...