Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2023 · 1 min read

मैने नहीं बुलाए

शाम चाय पर आये थे,
पर मैंने नही बुलाये थे।

लम्हे कुछ भीगे भीगे से,
सपने कुछ रीते रीते से।
हँसी की ओट में आ बैठे,
आंसू भी फीके फीके से।
उमड़ उमड़ कर आये थे,
पर मैंने नही बुलाये थे।

भीतर ही भीतर थे आहत,
दरका भी था कुछ शायद।
रोके से क्या रुकते इनकी,
न कोई हद न ही सरहद।
पँछी से खुद उड़ आये थे,
पर मैंने नही बुलाये थे।

थोड़ी सी देर जिया उनको,
चाय के संग पिया उनको।
बात तेरी चल निकली तो,
झट मैंने विदा किया उनको।
भूले जो नही भुलाए थे,
पर मैंने नही बुलाये थे।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/161.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
``बचपन```*
``बचपन```*
Naushaba Suriya
बारिश की बूंदे
बारिश की बूंदे
Praveen Sain
गांव
गांव
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शिशिर ऋतु-१
शिशिर ऋतु-१
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
नारी के कौशल से कोई क्षेत्र न बचा अछूता।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दवा दे गया
दवा दे गया
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
💐प्रेम कौतुक-158💐
💐प्रेम कौतुक-158💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
कितना प्यारा कितना पावन
कितना प्यारा कितना पावन
जगदीश लववंशी
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
यह जरूर एक क्रांति है... जो सभी आडंबरो को तोड़ता है
Utkarsh Dubey “Kokil”
अंधों के हाथ
अंधों के हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
"Looking up at the stars, I know quite well
पूर्वार्थ
*कहने को सौ बरस की, कहानी है जिंदगी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*कहने को सौ बरस की, कहानी है जिंदगी (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
वो कुछ इस तरह रिश्ता निभाया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
Loading...