Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2017 · 1 min read

मैं हूँ

सारे इंतज़ार की जड़ मैं हूँ
हर ज़रूरत की तलब मैं हूँ
गुज़रते हुए लम्हे की एक सोच
दिल मे जो घर कर जाए, मैं हूँ

दो साँसों के बीच को खाली जगह
तुमने अधूरी पढ़कर छोड़ी वो किताब
दूरियों के लिबास में लिपटा हुआ
खालीपन का गहरा एहसास मैं हूँ

मैं दर्द हूँ, दवा भी हूँ मैं
जो तुम अक्सर चाहते मैं वो हूँ
प्यार से ज़्यादा नफरत मिली मुझे
जंग में घायलों की चीखों सा मैं हूँ

संसार के पापों का प्रायश्चित
आसानी से निभाया गया परहेज़
जब कोई ना हो तब भी हूँ मैं
रूहानी सा एक एहसास मैं हूँ

–प्रतीक

Language: Hindi
320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
गुमनाम 'बाबा'
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Bodhisatva kastooriya
#सामयिक_रचना
#सामयिक_रचना
*प्रणय प्रभात*
नफरत थी तुम्हें हमसे
नफरत थी तुम्हें हमसे
Swami Ganganiya
भरत नाम अधिकृत भारत !
भरत नाम अधिकृत भारत !
Neelam Sharma
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
हार से डरता क्यों हैं।
हार से डरता क्यों हैं।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
Scattered existence,
Scattered existence,
पूर्वार्थ
दुनिया से ख़ाली हाथ सिकंदर चला गया
दुनिया से ख़ाली हाथ सिकंदर चला गया
Monika Arora
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2625.पूर्णिका
2625.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आखिर वो माँ थी
आखिर वो माँ थी
Dr. Kishan tandon kranti
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
गौतम बुद्ध के विचार
गौतम बुद्ध के विचार
Seema Garg
जुदाई का एहसास
जुदाई का एहसास
प्रदीप कुमार गुप्ता
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
हृदय को भी पीड़ा न पहुंचे किसी के
हृदय को भी पीड़ा न पहुंचे किसी के
इंजी. संजय श्रीवास्तव
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
आजकल स्याही से लिखा चीज भी,
Dr. Man Mohan Krishna
सावन: मौसम- ए- इश्क़
सावन: मौसम- ए- इश्क़
Jyoti Khari
प्रेम
प्रेम
Sushmita Singh
Love life
Love life
Buddha Prakash
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
घरौंदा इक बनाया है मुहब्बत की इबादत लिख।
आर.एस. 'प्रीतम'
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
আজ রাতে তোমায় শেষ চিঠি লিখবো,
Sakhawat Jisan
Loading...