Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 2 min read

*मैं भी कवि*

डॉ अरूण कुमार शास्त्री
शीर्षक मैं भी कवि

साहित्य सृजन को रे मनवा ।
क्या मानव एमऍ बीए ही चाहिए ।
एक सुन्दर कविता के लिए ।
क्या मानव सुन्दर ही चाहिए ।

मैं नहीं जानता तुलसी को ।
न ही मैं मिला कभी तिलोत्तमा से ।
मैं नहीं जानता कबीर को ।
न ही मैं मिला कभी रविदास से ।

लेकिन भावों के माध्यम से ।
निस दिन ही मैं कुछ न
कुछ हूँ लिखता रहता ।
उन जैसा तो बन सकता नहीं ।

उन जैसा तो लिख सकता नहीं ।
पर कोशिश तो करता रहता हूं ।
साहित्य सृजन को रे मनवा
क्या मानव एमऍ बीए ही चाहिए ।

एक सुन्दर कविता के लिए
क्या मानव सुन्दर ही चाहिए ।
मैं इंसा हूँ मैं भी ईश्वर की अनुपम रचना ।
मैं इंसा हूँ मैं ईश्वर की अनुपम रचना ।

मैं सृजन करूँ या कर पाऊं
उसके जैसा, ऐसा तो मेरा भाग्य नहीं ।
मैं नहीं चाहता बनना भी
पर काव्य सृजन कर सकता हूँ।

मेरे अन्दर कोमलता है, एक कविता की ।
इक वैचारिक अनबेषक हूँ, इक नन्ही कालिका सी।
मैं कर्तव्यों के निर्वहन से कर्मवीर, बन सकता हूं।
मैं साहित्य श्रम का पथिक उस राह चल सकता हूं।

शब्द – शब्द चुन कर के, मैं बुनता काव्य अतिविशेष
मस्तिष्क के कैनवास पर, मैं रचता छंद अनेक ।
संस्मरण के माध्यम से अपनी, जीवन यात्रा का वृतांत बतलाऊँगा ।
उन जैसा तो बन सकता नहीं, उन जैसा तो लिख सकता नहीं ।

पर कोशिश तो करता रहता,
साहित्य सृजन को रे मनवा
क्या मानव एमऍ बीए ही चाहिए ।
एक सुन्दर कविता के लिए ।
क्या मानव सुन्दर ही चाहिए ।

तुम भी चाहो तो तुम भी समझो,
ये गणित विषय का समीकरण।
दो और दो के पांच बनाओ प्रति क्षण,
है ना ये त्रिकोण कितना अजीब।

एक कली का सुबह – सुबह चटक कर फ़ूल बन जाना।
कितने दिन का जीवन उसका पर परिचय अदभुत क्षमता वाला।

छोटे से दिमाग में प्रति क्षण भावों के ताने बाने।
कविता छ्न्द दोहे और रचनाएं सृजित अनुपम माने।

किस दिन कवि बन जाता है ख्याति प्राप्त कोई क्या जानें?
लिखते- लिखते कोई मीर हुआ कोई ग़ालिब सा मशहूर हुआ।

कोई मुँशी प्रेम चंद कोई दुष्यन्त सा सबका चहेता अति महत्वपूर्ण हुआ।
आश्चर्य चकित क्यों होते हो, वे भी तो तुम जैसे थे ।

हम भी तो कवि बन सकते हैं हम भी रचना रच सकते हैं।
हम भी कोशिश कर सकते हैं,
साहित्य सृजन को रे मनवा ।
क्या मानव एमऍ बीए ही चाहिए ।
एक सुन्दर कविता के लिए ।
क्या मानव सुन्दर ही चाहिए ।

Language: Hindi
83 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
दूरी सोचूं तो...
दूरी सोचूं तो...
Raghuvir GS Jatav
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
नवरात्रि के इस पावन मौके पर, मां दुर्गा के आगमन का खुशियों स
Sahil Ahmad
........,?
........,?
शेखर सिंह
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
जी20
जी20
लक्ष्मी सिंह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
"देश भक्ति गीत"
Slok maurya "umang"
आज मैया के दर्शन करेंगे
आज मैया के दर्शन करेंगे
Neeraj Mishra " नीर "
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
जितना तुझे लिखा गया , पढ़ा गया
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
Ravi Prakash
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
प्रेम और दोस्ती में अंतर न समझाया जाए....
Keshav kishor Kumar
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
याद आते हैं
याद आते हैं
Chunnu Lal Gupta
संतानों का दोष नहीं है
संतानों का दोष नहीं है
Suryakant Dwivedi
#शेर
#शेर
*प्रणय प्रभात*
इन काली रातों से इक गहरा ताल्लुक है मेरा,
इन काली रातों से इक गहरा ताल्लुक है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"यही वक्त है"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल्ली चलें सब साथ
दिल्ली चलें सब साथ
नूरफातिमा खातून नूरी
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
Loading...