Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2023 · 1 min read

मैं भारत का जवान हूं…

ऐ वीर ! आखिर तुझ पर क्या ही लिखूं
तुम्हारा जीवन इन चंद शब्दों में कैसे समेटू
जो ठंडी , गर्मी , धूप , छांव को ना समझता
बस हमारी हिफाजत को ही सदा धर्म मानता
जो अपने दुखों को सतत् ही हंसकर छुपाता
वो फौजी ही होते यार जिन्हें न मौत का भय,
न ही सीने में गोली खाने का भय ! पर जब
याद घर की आती तो नैना नम हो ही जाती ।

वो कौन ही होता जो चंद सी रकम के लिए ही
अपनी आभूति देने के लिए सदा तत्पर रहता
बात यहां रकम की न है, बात देश भक्ति की है
जो सीने में गोली खाने के पश्चात भी मुस्कुराते है
आज उन्हीं की शहादत से हमसब सुरक्षित रहते
फिर भी नहीं मिलती उन्हें आबरू उतना क्यों ?
क्या उनके इस बलिदान की कोई कीमत नहीं होती
उन्हीं की बदौलत तो आज हम चैन का नींद ले रहे।

जो कड़कती ठंड, बर्फ में भी बंदूके तान खड़े रहते
बड़े दिन हो गए मां , बाबा को दर्शन किए हुए
मेरी मां चिंता कर कर बूढ़ी होने चली, मैं क्या ही करूं
यहां मुल्क की हिफाजत में, अपनी जवानी गंवा रहा
आखरी सांस जब तक चलेगी तिरंगे को झुकने न दूंगा
गोली खाके हस के वतन से ख़ुशी ख़ुशी शान से जाऊंगा
मुझे केंडल जला के भूल न जाना, मैं भारत का जवान हूं
मैं निज जवानी वतन के नाम किया , मैं भारत का जवान हूं ।

कवि :- अमरेश कुमार वर्मा
पता:- बेगूसराय, बिहार

Language: Hindi
1 Like · 682 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"क्या बताऊँ दोस्त"
Dr. Kishan tandon kranti
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
ध्यान सारा लगा था सफर की तरफ़
अरशद रसूल बदायूंनी
"बच्चों की दुनिया"
Dr Meenu Poonia
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
अवसर त मिलनक ,सम्भव नहिं भ सकत !
अवसर त मिलनक ,सम्भव नहिं भ सकत !
DrLakshman Jha Parimal
नकाबपोश रिश्ता
नकाबपोश रिश्ता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
ताकत
ताकत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Darak me paida hoti meri kalpanaye,
Sakshi Tripathi
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
समय यात्रा: मिथक या वास्तविकता?
Shyam Sundar Subramanian
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
*कमाल की बातें*
*कमाल की बातें*
आकांक्षा राय
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
रमेशराज के शृंगाररस के दोहे
कवि रमेशराज
वक्त के इस भवंडर में
वक्त के इस भवंडर में
Harminder Kaur
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
*बोलो चुकता हो सका , माँ के ऋण से कौन (कुंडलिया)*
*बोलो चुकता हो सका , माँ के ऋण से कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
जब वक्त ने साथ छोड़ दिया...
Ashish shukla
3090.*पूर्णिका*
3090.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंद्रधनुष
इंद्रधनुष
Dr Parveen Thakur
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
राह पर चलते चलते घटित हो गई एक अनहोनी, थम गए कदम,
Sukoon
💐अज्ञात के प्रति-109💐
💐अज्ञात के प्रति-109💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
डर - कहानी
डर - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
न मुमकिन है ख़ुद का घरौंदा मिटाना
शिल्पी सिंह बघेल
अपनी बेटी को
अपनी बेटी को
gurudeenverma198
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
Loading...