Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

अनुभव

अनुभव की क्या बात करें ?
अनुभव तो अनुभव होता है ।
कभी-कभी तो थोड़ा सा….
तो कभी गहनतम होता है ।।

कभी होता है गलती से
कभी संघर्षों से होता है !
लेकिन जब भी होता है ,
सब मिलता ,कुछ नहीं खोता है ।।

अनुभव तो हथियार है ऐसा
जो नहीं किसी से छोटा है !
बिगड़े काम सुधर जाते तब
मनुज कभी ना रोता है ।।

संस्कार – सद्गुण का खेत
अनुभव ने ही जोता है……
दानव भी मानव बन जाता
अनुभव का बीज जो बोता है ।।

दाग लगे जब मानव-मन पर
तब अनुभव उसको धोता है ।
मानव तो मानव है आखिर !
जो बिन अनुभव के थोथा है ।।

Language: Hindi
160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
जिसमें सच का बल भरा ,कहाँ सताती आँच(कुंडलिया)
Ravi Prakash
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
आ ठहर विश्राम कर ले।
आ ठहर विश्राम कर ले।
सरोज यादव
* नव जागरण *
* नव जागरण *
surenderpal vaidya
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रयास
प्रयास
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
हमें लिखनी थी एक कविता
हमें लिखनी थी एक कविता
shabina. Naaz
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
तेरे बिन घर जैसे एक मकां बन जाता है
Bhupendra Rawat
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
देखिए प्रेम रह जाता है
देखिए प्रेम रह जाता है
शेखर सिंह
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
गुमशुदा लोग
गुमशुदा लोग
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
विश्वपर्यावरण दिवस पर -दोहे
डॉक्टर रागिनी
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
राष्ट्र निर्माण को जीवन का उद्देश्य बनाया था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आज़ादी की क़ीमत
आज़ादी की क़ीमत
Shekhar Chandra Mitra
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय श्रमिक दिवस
Bodhisatva kastooriya
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
कभी-कभी हम निःशब्द हो जाते हैं
Harminder Kaur
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
ब्रज के एक सशक्त हस्ताक्षर लोककवि रामचरन गुप्त +प्रोफेसर अशोक द्विवेदी
कवि रमेशराज
मेरी माटी मेरा देश....
मेरी माटी मेरा देश....
डॉ.सीमा अग्रवाल
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3307.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
एक पुरुष जब एक महिला को ही सब कुछ समझ लेता है या तो वह बेहद
Rj Anand Prajapati
Loading...