Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-33💐

मैं तुम्हें छोडूँगा नहीं,जब तक तुम्हें पा नहीं लूँगा।
-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
1 Like · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
एहसास कभी ख़त्म नही होते ,
शेखर सिंह
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
आज सभी अपने लगें,
आज सभी अपने लगें,
sushil sarna
समर कैम्प (बाल कविता )
समर कैम्प (बाल कविता )
Ravi Prakash
जवाला
जवाला
भरत कुमार सोलंकी
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
ख्वाबों में भी तेरा ख्याल मुझे सताता है
Bhupendra Rawat
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*प्रणय प्रभात*
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक रूप से स्वस्थ्य
Dr.Rashmi Mishra
जिसका हम
जिसका हम
Dr fauzia Naseem shad
तुम में और मुझ में कौन है बेहतर
तुम में और मुझ में कौन है बेहतर
Bindesh kumar jha
☝️      कर्म ही श्रेष्ठ है!
☝️ कर्म ही श्रेष्ठ है!
Sunny kumar kabira
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
बाबा चतुर हैं बच बच जाते
बाबा चतुर हैं बच बच जाते
Dhirendra Singh
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
ऐसे तो दूर नहीं होगी यह मुश्किल
ऐसे तो दूर नहीं होगी यह मुश्किल
gurudeenverma198
वक्त वक्त की बात है,
वक्त वक्त की बात है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*साथ निभाना साथिया*
*साथ निभाना साथिया*
Harminder Kaur
2709.*पूर्णिका*
2709.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
जिंदगी भी रेत का सच रहतीं हैं।
Neeraj Agarwal
मुक्तक
मुक्तक
Sonam Puneet Dubey
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
बिन माली बाग नहीं खिलता
बिन माली बाग नहीं खिलता
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
जिम्मेदारियाॅं
जिम्मेदारियाॅं
Paras Nath Jha
इन्सान पता नही क्यूँ स्वयं को दूसरो के समक्ष सही साबित करने
इन्सान पता नही क्यूँ स्वयं को दूसरो के समक्ष सही साबित करने
Ashwini sharma
Loading...