Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Oct 2016 · 1 min read

मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ

तू जाने है के मरना चाहता हूँ?
मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ।।

अगर है इश्क़ आतिश से गुज़रना,
तो आतिश से गुज़रना चाहता हूँ।

न सह पाता हूँ ताबानी-ए-रुख़, पर
तेरा दीदार करना चाहता हूँ।

सरो सामान और अपना आईना दे!
मैं भी बनना सँवरना चाहता हूँ।

शराबे लब से मुँह मोड़ूं तो कैसे?
न मै पीना वगरना चाहता हूँ।

ऐ ग़ाफ़िल तेरा जादू बोले सर चढ़,
तेरे दिल में उतरना चाहता हूँ।।

-‘ग़ाफ़िल’

1 Like · 395 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी के हित प्यार
हिन्दी के हित प्यार
surenderpal vaidya
अगर आप
अगर आप
Dr fauzia Naseem shad
हर वर्ष जला रहे हम रावण
हर वर्ष जला रहे हम रावण
Dr Manju Saini
प्रदीप छंद
प्रदीप छंद
Seema Garg
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
*साइकिल (बाल कविता)*
*साइकिल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
जीवन में सबसे मूल्यवान अगर मेरे लिए कुछ है तो वह है मेरा आत्
Dr Tabassum Jahan
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
शब्दों में प्रेम को बांधे भी तो कैसे,
Manisha Manjari
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
जिंदगी भी एक लिखा पत्र हैं
Neeraj Agarwal
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
छल.....
छल.....
sushil sarna
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
सफाई इस तरह कुछ मुझसे दिए जा रहे हो।
Manoj Mahato
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
आप सभी को रक्षाबंधन के इस पावन पवित्र उत्सव का उरतल की गहराइ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चांद का टुकड़ा
चांद का टुकड़ा
Santosh kumar Miri
जा रहा हु...
जा रहा हु...
Ranjeet kumar patre
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी अर्थी🌹
मेरी अर्थी🌹
Aisha Mohan
2122 1212 22/112
2122 1212 22/112
SZUBAIR KHAN KHAN
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
अच्छे दोस्त भी अब आंखों में खटकने लगे हैं,
अच्छे दोस्त भी अब आंखों में खटकने लगे हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
ज़िंदगी कभी बहार तो कभी ख़ार लगती है……परवेज़
parvez khan
..
..
*प्रणय प्रभात*
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
जीवन आसान नहीं है...
जीवन आसान नहीं है...
Ashish Morya
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
Loading...