Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2023 · 1 min read

मैं और मेरा

माया तेरी संसार भी तेरा ,
हमने मिथ्या भ्रम क्यों पाला l
अहंकार में चूर पड़े थे,
मै और मेरा में फसे हुए थे ll

शून्य तुल्य भी अस्तित्व न अपना,
सकल ब्रह्माण्ड की तुलना में l
विचरण करते युग युग बीते,
८४ लाख योनियों में ll

जन्म मृत्यु के दुर्ग में फसकर,
माया के जंजीरों में कसकर ll
मिथ्या भ्रम में झूम रहे हैं,
कितनो पर स्वामित्व दिखाकर ll

स्वामी नहीं हम दास के दास हैं,
इतनी समझ कहाँ है मुझमें l
रज कण जितनी भी भूमि न मेरी,
ऐसा ज्ञान कहाँ है मुजमे ll

घर,रिश्ते ,धन और वैभव,
अस्थायी संग है इनका l
जब मृत्यु शैया पर पड़े हम होंगे,
तब देखो ,कितना सच्चा संग है सबका ll

जब स्वयं का देह भी साथ छोड़ दे,
मृत्यु ऐसी कठिन परीक्षा l
हरिनाम तू रटले बन्दे,
मैं मेरा में फसने से अच्छा ll

व्यर्थ है जीवन की परिभाषा ,
व्यर्थ है सारी उपलब्धि l
यदि अंत समय हरिनाम न निकला ,
और नाती पोतों तक आशा सिमटी ll

मैं मेरा में मत फस बन्दे ,
रट ले रट ले हरि का नाम l
काल चक्र तेजी से भागे,
मत कर तू क्षण भर आराम ll
रट ले रट ले हरि का नाम ll 🙏

Language: Hindi
7 Likes · 1 Comment · 262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
अंधे रेवड़ी बांटने में लगे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
मैं फूलों पे लिखती हूँ,तारों पे लिखती हूँ
Shweta Soni
गाडगे पुण्यतिथि
गाडगे पुण्यतिथि
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
आज के लिए जिऊँ लक्ष्य ये नहीं मेरा।
संतोष बरमैया जय
नारी का अस्तित्व
नारी का अस्तित्व
रेखा कापसे
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
*** नर्मदा : माँ तेरी तट पर.....!!! ***
VEDANTA PATEL
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
Anil chobisa
ना अब मनमानी करता हूं
ना अब मनमानी करता हूं
Keshav kishor Kumar
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
हम ही हैं पहचान हमारी जाति हैं लोधी.
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
देव उठनी
देव उठनी
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
जो लोग बाइक पर हेलमेट के जगह चश्मा लगाकर चलते है वो हेलमेट ल
Rj Anand Prajapati
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
*
*"सरहदें पार रहता यार है**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हम हैं क्योंकि वह थे
हम हैं क्योंकि वह थे
Shekhar Chandra Mitra
जब किनारे दिखाई देते हैं !
जब किनारे दिखाई देते हैं !
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
Sometimes people  think they fell in love with you because t
Sometimes people think they fell in love with you because t
पूर्वार्थ
3387⚘ *पूर्णिका* ⚘
3387⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
टूटे पैमाने ......
टूटे पैमाने ......
sushil sarna
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
जो दिल दरिया था उसे पत्थर कर लिया।
Neelam Sharma
कहां गए बचपन के वो दिन
कहां गए बचपन के वो दिन
Yogendra Chaturwedi
#रोज़मर्रा
#रोज़मर्रा
*Author प्रणय प्रभात*
मर्दुम-बेज़ारी
मर्दुम-बेज़ारी
Shyam Sundar Subramanian
मैं कैसे कह दूँ कि खतावर नहीं हो तुम
मैं कैसे कह दूँ कि खतावर नहीं हो तुम
VINOD CHAUHAN
"सागर तट पर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...