Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 2 min read

मैं उजाला और दीपावली

बह हमसे बोले हँसकर कि आज है दीवाली

उदास क्यों है दीखता क्यों बजा रहा नहीं ताली

मैं कैसें उनसे बोलूँ कि जेब मेरी ख़ाली

जब हाथ भी बंधें हो कैसें बजाऊँ ताली

बह बोले मुस्कराके धन से क्यों न खेलते तुम

देखो तो मेरी ओर दुखों को क्यों झेलते तुम

इन्सान कर्म पूजा सब को धन से ही तोलते हम

जिसके ना पास दौलत उससे न बोलते हम

मैंने जो देखा उनको खड़ें बह मुस्करा रहे थे

दीवाली के दिन तो बह दौलत लुटा रहे थे

मैनें कहा ,सच्चाई मेरी पूजा इंसानियत से नाता

तुम जो कुछ भी कह रहे हो ,नहीं है मुझको भाता

वह बोले हमसे हसकर ,कहता हूँ बह तुम सुन लो

दुनियां में मिलता सब कुछ खुशियों से दामन भर लो

बातों में है क्या रक्खा मौके पे बात बदल लो

पैसों कि खातिर दुनियां में सब से तुम सौदा कर लो

वह बोले हमसे हंसकर ,हकीकत भी तो यही है

इंसानों क़ी है दुनिया पर इंसानियत नहीं है

तुमको लगेगा ऐसा कि सब आपस में मिले हैं

पर ये न दिख सकेगा दिल में शिक्बे और गिले हैं

मैनें जो उनसे कहा क्या ,क्या कह जा रहे हैं

जो कुछ भी तुमने बोला ना हम समझ पा रहे हैं

मेरी नजर से देखो दुनियाँ में प्यार ही मिलेगा

दौलत का नशा झूठा पल भर में ये छटेगा

दौलत है आनी जानी ये तो तो सब ही जानतें हैं

ये प्यार भरी दुनियां बस हम प्यार मानतें है

प्रेम के दीपक, तुम जब हर दिल में जलाओगे

सुख शांति समृधि की सच्ची दौलत तुम पाओगे

वह बात सुन कर बोले ,यहाँ हर रोज है दीवाली

इन्सान की इस दुनियां का बस इश्वर है माली

बह मुस्करा के बोले अब हम तो समझ गएँ हैं

प्रेम के दीपक भी मेरे दिल में जल गए हैं

****************************************************8

दिवाली का पर्व है फिर अँधेरे में हम क्यों रहें
चलो हम अपने अहम् को जलाकर रौशनी कर लें

*************************************

दिवाली का पर्व है अँधेरा अब नहीं भाता मुझे
आज फिर मैंने तेरी याद के दीपक जला लिए

दीपाबली शुभ हो

मैं उजाला और दीपावली

मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
1 Comment · 356 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
पेड़ लगाए पास में, धरा बनाए खास
जगदीश लववंशी
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
* माथा खराब है *
* माथा खराब है *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2450.पूर्णिका
2450.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शुभ को छोड़ लाभ पर
शुभ को छोड़ लाभ पर
Dr. Kishan tandon kranti
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
पहचान तेरी क्या है
पहचान तेरी क्या है
Dr fauzia Naseem shad
होता अगर मैं एक शातिर
होता अगर मैं एक शातिर
gurudeenverma198
#पोस्टमार्टम-
#पोस्टमार्टम-
*Author प्रणय प्रभात*
शायरी हिंदी
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
हरि हृदय को हरा करें,
हरि हृदय को हरा करें,
sushil sarna
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
माँ गौरी रूपेण संस्थिता
Pratibha Pandey
वक्त एक हकीकत
वक्त एक हकीकत
umesh mehra
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
*जो अपना छोड़‌कर सब-कुछ, चली ससुराल जाती हैं (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
नफरतों के शहर में प्रीत लुटाते रहना।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*घर आँगन सूना - सूना सा*
*घर आँगन सूना - सूना सा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
माना तुम्हारे मुक़ाबिल नहीं मैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नियत
नियत
Shutisha Rajput
अद्भुत नाम
अद्भुत नाम
Satish Srijan
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
विपरीत परिस्थितियों में भी तुरंत फैसला लेने की क्षमता ही सफल
Paras Nath Jha
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
लोककवि रामचरन गुप्त के लोकगीतों में आनुप्रासिक सौंदर्य +ज्ञानेन्द्र साज़
कवि रमेशराज
"मन मेँ थोड़ा, गाँव लिए चल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
रे मन
रे मन
Dr. Meenakshi Sharma
हिदायत
हिदायत
Bodhisatva kastooriya
* मन में कोई बात न रखना *
* मन में कोई बात न रखना *
surenderpal vaidya
रंगों की दुनिया में सब से
रंगों की दुनिया में सब से
shabina. Naaz
नारी रखे है पालना l
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
Loading...