Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

“मेला”

“मेला”
रंग-बिरंगे गुब्बारों से,
मन को ललचाता मेला।
सिनेमा सर्कस नाच वो झूले,
मन खुश कर जाता मेला।
भूले-बिसरे लोगों से भी
मेल-जोल करवाता मेला।
हर बरस हर दौर में
अमिट छाप छोड़ जाता मेला।

1 Like · 1 Comment · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
दीवाली
दीवाली
Nitu Sah
मुलभुत प्रश्न
मुलभुत प्रश्न
Raju Gajbhiye
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
है वक़्त बड़ा शातिर
है वक़्त बड़ा शातिर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" लोग "
Chunnu Lal Gupta
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
पूनम की चांदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो
Ram Krishan Rastogi
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
हमसे तुम वजनदार हो तो क्या हुआ,
Umender kumar
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
😊काम बिगाड़ू भीड़😊
*प्रणय प्रभात*
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
जो मनुष्य सिर्फ अपने लिए जीता है,
नेताम आर सी
सिर्फ अपना उत्थान
सिर्फ अपना उत्थान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
*श्री विष्णु शरण अग्रवाल सर्राफ के गीता-प्रवचन*
Ravi Prakash
द्वारिका गमन
द्वारिका गमन
Rekha Drolia
★भारतीय किसान★
★भारतीय किसान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
मत कुरेदो, उँगलियाँ जल जायेंगीं
Atul "Krishn"
"श्रृंगारिका"
Ekta chitrangini
धरा और हरियाली
धरा और हरियाली
Buddha Prakash
लेखनी का सफर
लेखनी का सफर
Sunil Maheshwari
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"तुम भी काश चले आते"
Dr. Kishan tandon kranti
करुणा का भाव
करुणा का भाव
shekhar kharadi
वो मुझसे आज भी नाराज है,
वो मुझसे आज भी नाराज है,
शेखर सिंह
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
चराग़ों की सभी ताक़त अँधेरा जानता है
अंसार एटवी
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तमाम उम्र काट दी है।
तमाम उम्र काट दी है।
Taj Mohammad
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...