Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2023 · 1 min read

मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है

मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मगर तुम्हे ख्वाबो में ना देखूं ऐसी कोई रात नहीं है
शिव प्रताप लोधी

296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from शिव प्रताप लोधी
View all
You may also like:
क्या कहें?
क्या कहें?
Srishty Bansal
प्रेम दिवानी
प्रेम दिवानी
Pratibha Pandey
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
गुरु तेग बहादुर जी जन्म दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
हँसने-हँसाने में नहीं कोई खामी है।
लक्ष्मी सिंह
रामचरितमानस
रामचरितमानस
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
कभी एक तलाश मेरी खुद को पाने की।
Manisha Manjari
हश्र का मंज़र
हश्र का मंज़र
Shekhar Chandra Mitra
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
गुरु पूर्णिमा पर ....!!!
गुरु पूर्णिमा पर ....!!!
Kanchan Khanna
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
*जानो आँखों से जरा ,किसका मुखड़ा कौन (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
Neeraj Agarwal
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
मरना बड़ी बात नही जीना बड़ी बात है....
_सुलेखा.
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
आत्मविश्वास
आत्मविश्वास
Shyam Sundar Subramanian
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
चाय ही पी लेते हैं
चाय ही पी लेते हैं
Ghanshyam Poddar
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
गीत - इस विरह की वेदना का
गीत - इस विरह की वेदना का
Sukeshini Budhawne
भीड से निकलने की
भीड से निकलने की
Harminder Kaur
हकीकत
हकीकत
अखिलेश 'अखिल'
2955.*पूर्णिका*
2955.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Paras Nath Jha
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
बाल कविता: मोटर कार
बाल कविता: मोटर कार
Rajesh Kumar Arjun
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
सत्ता की हवस वाले राजनीतिक दलों को हराकर मुद्दों पर समाज को जिताना होगा
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
Loading...