Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

मेरी हस्ती

गर्दिश ने मुझे कुछ इस कदर मारा ,
मैं होकर रह गया बेबस बेचारा ,

लोगों की फ़ितरत ने मुझे इस कदर लूटा ,
ग़म ज़ब्त करते हुए मजबूर मै हर बार टूटा ,

बदग़ुमानी से मोरिद-ए-इल्ज़ाम होता रहा ,
तर्क-ए- मरासिम के खौफ़ से बग़ावत न कर सका ,

अख़लाक़ , वफ़ा , एहसास सब कोरी बातें
होकर रह गई ,
इस ज़माने में मेरी हस्ती अदना सी नाकारा
होकर रह गई ।

2 Likes · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
सुमति
सुमति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
विश्व भर में अम्बेडकर जयंती मनाई गयी।
शेखर सिंह
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
खुद से रूठा तो खुद ही मनाना पड़ा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
🌹खूबसूरती महज....
🌹खूबसूरती महज....
Dr Shweta sood
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
मेरा प्यारा राज्य...... उत्तर प्रदेश
Neeraj Agarwal
माँ i love you ❤ 🤰
माँ i love you ❤ 🤰
Swara Kumari arya
जिंदगी भर किया इंतजार
जिंदगी भर किया इंतजार
पूर्वार्थ
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
बसे हैं राम श्रद्धा से भरे , सुंदर हृदयवन में ।
जगदीश शर्मा सहज
वो मूर्ति
वो मूर्ति
Kanchan Khanna
2691.*पूर्णिका*
2691.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
VINOD CHAUHAN
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
श्री राम एक मंत्र है श्री राम आज श्लोक हैं
Shankar N aanjna
'मरहबा ' ghazal
'मरहबा ' ghazal
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
वृद्धावस्था
वृद्धावस्था
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
*छोड़ी पशु-हिंसा प्रथा, अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
*छोड़ी पशु-हिंसा प्रथा, अग्रसेन जी धन्य (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मन तो मन है
मन तो मन है
Pratibha Pandey
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
मेरे दिल की हर धड़कन तेरे ख़ातिर धड़कती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हाँ, मेरा यह खत
हाँ, मेरा यह खत
gurudeenverma198
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
मन की इच्छा मन पहचाने
मन की इच्छा मन पहचाने
Suryakant Dwivedi
Loading...