Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

मेरी फितरत तो देख

मैं लड़खड़ा के यूँ चलता हूँ मेरी किस्मत ना देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ मेरी फितरत तो देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ…….

जीवन के इन रास्तों में, डग-डग पर ही मुसीबतें हैं
हँस-हँस के गुजरता हूँ अरे मेरी हिम्मत तो देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ…………..

किससे कहूँ मैं इस दिल की सुनता कहाँ है कोई
शब्दों को निगलता हूँ अरे मेरी हसरत तो देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ……………

जो कुछ दिया खुदा ने मैं उस में ही खुश रहता हूँ
शिकवा नहीं करता हूँ अरे मेरी नियत तो देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ………….

अपनों ने तन्हाँ छोड़ा है कभी दिल किसी ने तोड़ा
फिर भी न बिखरता हूँ अरे मेरी ताकत तो देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ…………..

कहता रहे जमाना अब जिसको भौ है जो कहना
‘V9द’ मन की करता हूँ यरे मेरी आदत तो देख
मैं गिर-गिर के सम्भलता हूँ…………..

स्वरचित
विनोद चौहान

1 Like · 27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
It’s all be worthless if you lose your people on the way..
पूर्वार्थ
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
*सपने कुछ देखो बड़े, मारो उच्च छलॉंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
समस्या
समस्या
Paras Nath Jha
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2314.पूर्णिका
2314.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कैसे हो गया बेखबर तू , हमें छोड़कर जाने वाले
कैसे हो गया बेखबर तू , हमें छोड़कर जाने वाले
gurudeenverma198
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
■आओ करें दुआएं■
■आओ करें दुआएं■
*प्रणय प्रभात*
श्वान संवाद
श्वान संवाद
Shyam Sundar Subramanian
पलकों में शबाब रखता हूँ।
पलकों में शबाब रखता हूँ।
sushil sarna
********* बुद्धि  शुद्धि  के दोहे *********
********* बुद्धि शुद्धि के दोहे *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अहंकार
अहंकार
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हम अभी ज़िंदगी को
हम अभी ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
आंधी
आंधी
Aman Sinha
गुरु से बडा ना कोय🙏
गुरु से बडा ना कोय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक ताज़ा कलाम _ नज़्म _ आएगा जो आएगा....
एक ताज़ा कलाम _ नज़्म _ आएगा जो आएगा....
Neelofar Khan
एक सपना
एक सपना
Punam Pande
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
अमीर घरों की गरीब औरतें
अमीर घरों की गरीब औरतें
Surinder blackpen
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
चुनौती
चुनौती
Ragini Kumari
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
आए हैं फिर चुनाव कहो राम राम जी।
सत्य कुमार प्रेमी
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
किस तिजोरी की चाबी चाहिए
भरत कुमार सोलंकी
नारी
नारी
Mamta Rani
Loading...