Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2024 · 1 min read

मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,

मेरी खूबसूरती बदन के ऊपर नहीं,
दिल के भीतर संवरती हैं।
देखना हो गर मुरीद… !
दिल से दिल में उतर देखिए।
💫✨

1 Like · 64 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
रिश्तों में बेबुनियाद दरार न आने दो कभी
VINOD CHAUHAN
मदद
मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
2829. *पूर्णिका*
2829. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
............
............
शेखर सिंह
🙅चुनावी चौपाल🙅
🙅चुनावी चौपाल🙅
*Author प्रणय प्रभात*
“मैं सब कुछ सुनकर भी
“मैं सब कुछ सुनकर भी
गुमनाम 'बाबा'
एहसासों से भरे पल
एहसासों से भरे पल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"जाम"
Dr. Kishan tandon kranti
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
परफेक्ट बनने के लिए सबसे पहले खुद में झांकना पड़ता है, स्वयं
Seema gupta,Alwar
राम समर्पित रहे अवध में,
राम समर्पित रहे अवध में,
Sanjay ' शून्य'
आज की नारी
आज की नारी
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
కృష్ణా కృష్ణా నీవే సర్వము
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
भारत के वायु वीर
भारत के वायु वीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ये अलग बात है
ये अलग बात है
हिमांशु Kulshrestha
पायल
पायल
Dinesh Kumar Gangwar
*हे शारदे मां*
*हे शारदे मां*
Dr. Priya Gupta
रंगरेज कहां है
रंगरेज कहां है
Shiva Awasthi
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Sukoon
*अहं ब्रह्म अस्मि*
*अहं ब्रह्म अस्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक
राजर्षि अरुण की नई प्रकाशित पुस्तक "धूप के उजाले में" पर एक नजर
Paras Nath Jha
*कुत्ते चढ़ते गोद में, मानो प्रिय का साथ (कुंडलिया)*
*कुत्ते चढ़ते गोद में, मानो प्रिय का साथ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सच समाज में प्रवासी है
सच समाज में प्रवासी है
Dr MusafiR BaithA
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
Loading...