Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

“मेरी कलम से”

“मेरी कलम से”
‘उनचास पचपन इंकावन’
यह कोई तिलिस्म नहीं,
पिनकोड नम्बर है
हमारे गाँव मस्तूरी का,
लेकिन सब्र रखिए
बहुत कुछ मिलेगा
मेरी कलम से…।

3 Likes · 2 Comments · 65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
धरती का बुखार
धरती का बुखार
Anil Kumar Mishra
प्यार नहीं दे पाऊँगा
प्यार नहीं दे पाऊँगा
Kaushal Kumar Pandey आस
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*राजा राम सिंह चालीसा*
*राजा राम सिंह चालीसा*
Ravi Prakash
चाँद तारे गवाह है मेरे
चाँद तारे गवाह है मेरे
shabina. Naaz
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
Phool gufran
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
■ कुत्ते की टेढ़ी पूंछ को सीधा  करने की कोशिश मात्र समय व श्र
■ कुत्ते की टेढ़ी पूंछ को सीधा करने की कोशिश मात्र समय व श्र
*प्रणय प्रभात*
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रेम की पाती
प्रेम की पाती
Awadhesh Singh
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
कोई जो पूछे तुमसे, कौन हूँ मैं...?
पूर्वार्थ
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
କେବଳ ଗୋଟିଏ
କେବଳ ଗୋଟିଏ
Otteri Selvakumar
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
3159.*पूर्णिका*
3159.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जनता  जाने  झूठ  है, नेता  की  हर बात ।
जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
sushil sarna
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
अगर मैं कहूँ
अगर मैं कहूँ
Shweta Soni
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
जब मैं मंदिर गया,
जब मैं मंदिर गया,
नेताम आर सी
जितनी बार भी तुम मिली थी ज़िंदगी,
जितनी बार भी तुम मिली थी ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रक्षा बन्धन पर्व ये,
रक्षा बन्धन पर्व ये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...