Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 2 min read

*मेरी इच्छा*

मेरी इच्छा
रंग रूप हो एक हमारा, एक हमारा विधान है।
अन्जान भी हमारे यहां, बन जाता मेहमान हैं।
बहे समरसता की गंगा, समान सब इंसान हो।
ईर्ष्या नहीं प्रेम हमारी, जन-जन की पहचान हो।
ऐसा देश हो हमारा भाई, कर्ज ना हो एक भी पाई।
कोई निर्दोष की बिन दोष के, हो ना कभी पिटाई।
नीति हो हमारी ऐसी, हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई।
जाति धर्म चाहे कुछ हो, आपस में हों भाई भाई।
सभी का हो ऐसा वेश, ना कोई करे द्वेष।
बड़ी से बड़ी बात का, निपट जाए घर पर केस।
एक दूजे का सम्मान करें, पापी से हम ना डरें।
जीवन में जो करना हमको, उसके लिए आह भरें।
ऐसी मीठी हो भाषा हमारी, किसी का मन न दुखाएं।
ऐसे हो कार्य हमारे, हम जग में पूजे जाएं।
ना किसी से करो लड़ाई, आपस सब भाई भाई।
किसी का दिल दुखे जिससे, ऐसी ना तुम करो कमाई।
शासन-प्रशासन ऐसा हो, जो दूसरे देश सलाम करें।
अच्छा हर जगह बताएं, खुद इसका गुणगान करें।
भाए सभी को यहां की शिक्षा, ताके दुनिया इसकी ओर।
विश्वबंधु हो नीति हमारी, ना मिले इसका छोर।
भाई भतीजावाद रहे ना, ना रहे रिश्वतखोरी।
पुलिस विभाग भी सतर्क रहे, पकड़ ले इनकी चोरी।
एक दूसरे से प्रेम करें सब, मनमुटाव को दो धिक्कार।
भूखा भी ना रहे कोई भी, भूखा का ना हो शिकार।
एक दूसरे की मदद करें सब, अपना हाथ बढ़ा कर।
ना ईर्ष्या से मिलता कुछ, ना दूसरों को सताकर।
ध्यान रहे मान रहे,हर जगह सम्मान रहे।
दुष्यन्त कुमार की कलम में लिखने की, हर समय जान रहे।
युद्ध छोड़ बने बुद्ध हम, गैरों को ना हम ताकें।
ऐसे हमारे सद्गुण हों,इनको हम सब में बांटें।
दुष्यन्त कुमार जैसी सभी की, हों ऐसी इच्छाएं।
कभी ख़त्म न हो हमारी, ऐसी अमिट अभिलाषाएं।

5 Likes · 393 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जाने किस मोड़ पे आकर मै रुक जाती हूं।
जाने किस मोड़ पे आकर मै रुक जाती हूं।
Phool gufran
■अपराध-बोध■
■अपराध-बोध■
*प्रणय प्रभात*
Line.....!
Line.....!
Vicky Purohit
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
लोगों के साथ सामंजस्य स्थापित करना भी एक विशेष कला है,जो आपक
Paras Nath Jha
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
नया सपना
नया सपना
Kanchan Khanna
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
सम्बन्ध (नील पदम् के दोहे)
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
खुद को इतना मजबूत बनाइए कि लोग आपसे प्यार करने के लिए मजबूर
ruby kumari
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
सितारों की तरह चमकना है, तो सितारों की तरह जलना होगा।
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
खुदा जाने
खुदा जाने
Dr.Priya Soni Khare
"एक जंगल"
Dr. Kishan tandon kranti
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
3393⚘ *पूर्णिका* ⚘
3393⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
जब आपके आस पास सच बोलने वाले न बचे हों, तो समझिए आस पास जो भ
Sanjay ' शून्य'
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
*सहकारी-युग हिंदी साप्ताहिक का तीसरा वर्ष (1961 - 62 )*
Ravi Prakash
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
गाथा बच्चा बच्चा गाता है
Harminder Kaur
सोशल मीडिया
सोशल मीडिया
Raju Gajbhiye
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
आँखों में अब बस तस्वीरें मुस्कुराये।
Manisha Manjari
पराया हुआ मायका
पराया हुआ मायका
विक्रम कुमार
रास्ते और राह ही तो होते है
रास्ते और राह ही तो होते है
Neeraj Agarwal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नींद ( 4 of 25)
नींद ( 4 of 25)
Kshma Urmila
आज़ादी की शर्त
आज़ादी की शर्त
Dr. Rajeev Jain
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
मैं तुझसे बेज़ार बहुत
Shweta Soni
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
Loading...