Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2024 · 1 min read

मेरा वतन

मेरा वतन, है मेरा अभिमान |
इस पर कुर्बा, मेरी जान ||
वंदन करूँ मैं इसका, सुबह व शाम |
भारतीय हूँ मैं, मिला ये वरदान ||

न कोई हिन्दू, न मुस्लिम यहाँ |
धर्मों की विभिन्नताएँ, है यहाँ ||
मेरा वतन, केवल मानवता सिखाये |
सद्भावना अपनाने पर, बल दिए जाये ||

इस पावन माटी में, जन्मे वीर हजार |
जिससे बढ़ता है, हम सबका उत्साह ||
सुनकर किस्से ऐसे महान, मन जोश से भरता |
जुबाँ से केवल, वन्दे मातरम् का स्वर गूँजता ||

यहाँ है बहती, केवल प्रेम की धारा |
द्वेष से कोसों, दूर सब रहे ||
हिल-मिलकर, सब त्योहार का गीत गाये |
ख़ुशी के रंग में, मिले और मिल जाये ||

Language: Hindi
24 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" मुझमें फिर से बहार न आयेगी "
Aarti sirsat
"वट वृक्ष है पिता"
Ekta chitrangini
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
औरत
औरत
नूरफातिमा खातून नूरी
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
जब मरहम हीं ज़ख्मों की सजा दे जाए, मुस्कराहट आंसुओं की सदा दे जाए।
Manisha Manjari
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
......,,,,
......,,,,
शेखर सिंह
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
शुभ प्रभात संदेश
शुभ प्रभात संदेश
Kumud Srivastava
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सदा खुश रहो ये दुआ है मेरी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
SHAMA PARVEEN
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
अगर शमशीर हमने म्यान में रक्खी नहीं होती
Anis Shah
3004.*पूर्णिका*
3004.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*कैसे भूले देश यह, तानाशाही-काल (कुंडलिया)*
*कैसे भूले देश यह, तानाशाही-काल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यादें
यादें
Johnny Ahmed 'क़ैस'
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
असफलता
असफलता
Neeraj Agarwal
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
चित्रकार उठी चिंकारा बनी किस के मन की आवाज बनी
प्रेमदास वसु सुरेखा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
सिर्फ खुशी में आना तुम
सिर्फ खुशी में आना तुम
Jitendra Chhonkar
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
कितना रोका था ख़ुद को
कितना रोका था ख़ुद को
हिमांशु Kulshrestha
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
वक़्त ने किया है अनगिनत सवाल तपते...
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
#देसी_ग़ज़ल
#देसी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
Loading...