Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2017 · 2 min read

मेरा बचपन

मेरा बचपन —–

काश कोई मेरा
ऐसा बचपन लौटा देता–
भूख लगी है माँ
कुछ खाने को दे दो,
रूखा-सूखा जो है दे दो
माँ, तुम जल्दी दे दो ना
मेरी बात मान लो ना
सारे मित्र वो देखो
प्रतीक्षा कर रहे हैं
वो देखो वहीं से अमन,
अमन चिल्ला रहे हैं
मैं कुछ खा लूँ तब चलूँ
सारे मित्रों संग मिल-बाँट कर खेलूँ
बिट्टू, लल्लू, बिल्लू, बब्लू,
कल्लू, मंगरू, झगरू सब होंगे |
लुका-छिपी, गिल्ली डंडा, दोल्हा-पात्ती
चिक्का, कबड्डी आज तो खेल सब होंगे
माँ, तुम खाने को दे दो
रूखा-सूखा जो है दे दो
काश कोई मेरा
ऐसा बचपन लौटा देता !!!

दादू माँगें फिर से बचपन
दादी माँगे फिर से बचपन
बापू कहें चाहूँ ऐसा बचपन
माँ मेरी चाहे ऐसा ही बचपन
चाचू भी मुझसे बचपन माँगें
चाची मेरी तब खिलखिला के हँसे
बोली, तब मैं किससे बचपन माँगूँ
मैं भी तो अब बचपन में जाना चाहूँ
बचपन है भाई कितना प्यारा
सबको लगे क्यूँ इतना न्यारा
सब बच्चा बनना चाहते हैं
हर कोई बचपन में जाना चाहे
सब क्यों जिम्मेदारियों से भागना चाहें
… और कहते फिरते हैं —-
माँ, तुम खाने को दे दो
रूखा-सूखा जो है दे दो
काश कोई मेरा
ऐसा बचपन लौटा देता !!!

वो निडर होकर खेलना-कूदना
वो निर्भय होकर कूदना-फाँदना
वो आपस में लड़ना और झगड़ना
वो आपस में पटका-पटकी करना
फिर वापस गल बँहिया मिलना
और फिर मौका मिलते झगड़ पड़ना
कभी कुत्तों को दौड़ाना तो
कभी चिड़ियों के पीछे भागना
कभी तितलियों को पकड़ना तो
कभी जुगनुओं को धर दबोचना
कभी पेड़ों पर चढ़ना-उतरना तो
कभी बेमतलब का दौड़ लगाना
फिर अमराई से आम चुराकर
और गछवाहे की गाली सुनना
माँ, तुम खाने को दे दो
रूखा-सूखा जो है दे दो
काश कोई मेरा
ऐसा बचपन लौटा देता !!!

==============
दिनेश एल० “जैहिंद”
03. 02. 2017

Language: Hindi
327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
सत्याधार का अवसान
सत्याधार का अवसान
Shyam Sundar Subramanian
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
वो ख्यालों में भी दिल में उतर जाएगा।
Phool gufran
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
हे राम तुम्हारा अभिनंदन।
सत्य कुमार प्रेमी
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
Paras Nath Jha
🌼एकांत🌼
🌼एकांत🌼
ruby kumari
गम्भीर हवाओं का रुख है
गम्भीर हवाओं का रुख है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
नर से नर पिशाच की यात्रा
नर से नर पिशाच की यात्रा
Sanjay ' शून्य'
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
बेटी है हम हमें भी शान से जीने दो
SHAMA PARVEEN
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
आकर फंस गया शहर-ए-मोहब्बत में
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
कर्त्तव्य
कर्त्तव्य
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पत्नी की पहचान
पत्नी की पहचान
Pratibha Pandey
इमारत बड़ी थी वो
इमारत बड़ी थी वो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अपना मन
अपना मन
Harish Chandra Pande
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
2325.पूर्णिका
2325.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"अकेडमी वाला इश्क़"
Lohit Tamta
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
सड़क जो हाइवे बन गया
सड़क जो हाइवे बन गया
आर एस आघात
Live in Present
Live in Present
Satbir Singh Sidhu
मेहनती मोहन
मेहनती मोहन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ तंत्र का षड्यंत्र : भय फैलाना और लाभ उठाना।
■ तंत्र का षड्यंत्र : भय फैलाना और लाभ उठाना।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...