Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-9💐

मेरा प्रेम पूर्णतः निरक्षर है।परन्तु उनका प्रेम मुझसे लिखबा देता है।
-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
236 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वयं से सवाल
स्वयं से सवाल
आनन्द मिश्र
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
मैं तो महज पहचान हूँ
मैं तो महज पहचान हूँ
VINOD CHAUHAN
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
चंद्रयान-थ्री
चंद्रयान-थ्री
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
आता एक बार फिर से तो
आता एक बार फिर से तो
Dr Manju Saini
खिलाड़ी
खिलाड़ी
महेश कुमार (हरियाणवी)
गरीब की आरजू
गरीब की आरजू
Neeraj Agarwal
खालीपन - क्या करूँ ?
खालीपन - क्या करूँ ?
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुना था,
सुना था,
हिमांशु Kulshrestha
मेरे राम
मेरे राम
Ajay Mishra
19)”माघी त्योहार”
19)”माघी त्योहार”
Sapna Arora
कुछ परिंदें।
कुछ परिंदें।
Taj Mohammad
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"वक्त के पाँव में"
Dr. Kishan tandon kranti
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
स्वर्गीय लक्ष्मी नारायण पांडेय निर्झर की पुस्तक 'सुरसरि गंगे
Ravi Prakash
प्रेम मे धोखा।
प्रेम मे धोखा।
Acharya Rama Nand Mandal
आज फिर दर्द के किस्से
आज फिर दर्द के किस्से
Shailendra Aseem
🙅अजब-ग़ज़न🙅
🙅अजब-ग़ज़न🙅
*प्रणय प्रभात*
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
पारिवारिक मूल्यों को ताख पर रखकर आप कैसे एक स्वस्थ्य समाज और
पारिवारिक मूल्यों को ताख पर रखकर आप कैसे एक स्वस्थ्य समाज और
Sanjay ' शून्य'
कैसी दास्तां है
कैसी दास्तां है
Rajeev Dutta
“गुरु और शिष्य”
“गुरु और शिष्य”
DrLakshman Jha Parimal
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
जब भर पाया ही नहीं, उनका खाली पेट ।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
जीवन है बस आँखों की पूँजी
Suryakant Dwivedi
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
Loading...