Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-9💐

मेरा प्रेम पूर्णतः निरक्षर है।परन्तु उनका प्रेम मुझसे लिखबा देता है।
-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
54 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
आज कल लोगों के दिल
आज कल लोगों के दिल
Satish Srijan
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
हिन्दी दोहा -स्वागत 1-2
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
नवसंवत्सर लेकर आया , नव उमंग उत्साह नव स्पंदन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इश्क़ में
इश्क़ में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
Dr Archana Gupta
*हमें सहारा सिर्फ तुम्हारा,हे मोहन घनश्याम 【भक्ति गीत】*
*हमें सहारा सिर्फ तुम्हारा,हे मोहन घनश्याम 【भक्ति गीत】*
Ravi Prakash
इश्क़ का दस्तूर
इश्क़ का दस्तूर
VINOD KUMAR CHAUHAN
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
कितना सुकून और कितनी राहत, देता माँ का आँचल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
कभी-कभी दिल को भी अपडेट कर लिया करो .......
shabina. Naaz
मेरी-तेरी पाती
मेरी-तेरी पाती
Ravi Ghayal
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
अज्ञेय अज्ञेय क्यों है - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
बँटवारे का दर्द
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
💐प्रेम कौतुक-530💐
💐प्रेम कौतुक-530💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दुश्मनी इस तरह निभायेगा ।
दुश्मनी इस तरह निभायेगा ।
Dr fauzia Naseem shad
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Maturity is not when we start observing , judging or critici
Leena Anand
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
जिंदगी में गम ना हो तो क्या जिंदगी
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
रक्त को उबाल दो
रक्त को उबाल दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
जे जाड़े की रातें (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
🚩एकांत महान
🚩एकांत महान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
रामचरितमानस (मुक्तक)
रामचरितमानस (मुक्तक)
नीरज कुमार ' सरल'
माय
माय
Acharya Rama Nand Mandal
फागुन में.....
फागुन में.....
Awadhesh Kumar Singh
■ शेर
■ शेर
*Author प्रणय प्रभात*
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इंक़लाब आएगा
इंक़लाब आएगा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...