Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 1 min read

मूकनायक

मूकनायक बनकर कोई चल पड़ा है…
~~°~~°~~°
मूकनायक बनकर कोई चल पड़ा है,
मूकदर्शक अब हमें रहना नहीं है….
सोचने का समय नहीं है, घर से निकलो,
मार्गदर्शक बनना है तुमको,स्वांग बदलो।
बेसबब बढ़ता गया जो जुर्म,
सहने की आदत पड़ी थी,
बेबसी का आलम हर तरफ,
रहनुमाओं की चुप्पी पड़ी थी।
कांपती है तब धरा, जब जुल्म बढता,
मौन रहकर ,जुल्म अब सहना नहीं है।

मूकनायक बनकर कोई चल पड़ा है,
मूकदर्शक अब हमें रहना नहीं है….

साम्राज्य था अपराधियों का,
सत्ता की गांठे पड़ी थी,
सींचकर लहू से धरा को,
झूठ की बांछें खिली थी।
गूंजता था चीख पथ पर,
आतंक की कालिख लगाए ,
अन्याय से उपजी निराशा,
अतीत में कितनी घनी थी।
उतरे हैं अब जो आदियोगी,नभ से धरा पर,
साथ चलकर अब तो दौड़ो,तुम भी यहाँ पर।
आएं हैं प्रभु इस धरा पर,
दुष्टों का ही संहार करने ,
अगवानी करने साथ आओ,
युग संधि का खाका खड़ा है।

मूकनायक बनकर कोई चल पड़ा है,
मूकदर्शक अब हमें रहना नहीं है….

मौलिक और स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ३० /०४ /२०२३
वैशाख , शुक्ल पक्ष , दशमी ,रविवार
विक्रम संवत २०८०
मोबाइल न. – 8757227201
ई-मेल – mk65ktr@gmail.com

7 Likes · 1477 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
संकल्प
संकल्प
Naushaba Suriya
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
आवारगी मिली
आवारगी मिली
Satish Srijan
तसव्वुर
तसव्वुर
Shyam Sundar Subramanian
बे-आवाज़. . . .
बे-आवाज़. . . .
sushil sarna
"तिलचट्टा"
Dr. Kishan tandon kranti
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
जीवनी स्थूल है/सूखा फूल है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
कल रहूॅं-ना रहूॅं...
पंकज कुमार कर्ण
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
*हारा कब हारा नहीं, दिलवाया जब हार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
■ बे-मन की बात।।
■ बे-मन की बात।।
*Author प्रणय प्रभात*
संबंध क्या
संबंध क्या
Shweta Soni
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
प्रजातन्त्र आडंबर से नहीं चलता है !
DrLakshman Jha Parimal
2344.पूर्णिका
2344.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
दिखती है हर दिशा में वो छवि तुम्हारी है
Er. Sanjay Shrivastava
लाल बचा लो इसे जरा👏
लाल बचा लो इसे जरा👏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कौर दो कौर की भूख थी
कौर दो कौर की भूख थी
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
निर्लज्ज चरित्र का स्वामी वो, सम्मान पर आँख उठा रहा।
Manisha Manjari
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
विद्यार्थी के मन की थकान
विद्यार्थी के मन की थकान
पूर्वार्थ
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
#डॉअरुणकुमारशास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्यू ना वो खुदकी सुने?
क्यू ना वो खुदकी सुने?
Kanchan Alok Malu
दोस्ती की कीमत - कहानी
दोस्ती की कीमत - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
Loading...