Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 1 min read

मुहब्बत दिल से होती है

मुहब्बत दिल से होती है खुदा की ये इबादत है
मुहब्बत से ही तो दिखती, ये दुनिया खूबसूरत है
मगर इंसान ये बिल्कुल,समझ पाया नहीं अब तक
मुहब्बत की लिखी होती विरह से क्यूँ इबारत है
डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
1 Comment · 475 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
भूत अउर सोखा
भूत अउर सोखा
आकाश महेशपुरी
प्यार कर हर इन्सां से
प्यार कर हर इन्सां से
Pushpa Tiwari
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
💫समय की वेदना😥
💫समय की वेदना😥
SPK Sachin Lodhi
संवेदनाएं
संवेदनाएं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Happy Father's Day
Happy Father's Day
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"ईमानदारी"
Dr. Kishan tandon kranti
सच
सच
Sanjay ' शून्य'
" मुरादें पूरी "
DrLakshman Jha Parimal
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
झूठ न इतना बोलिए
झूठ न इतना बोलिए
Paras Nath Jha
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
कल को छोड़कर
कल को छोड़कर
Meera Thakur
Be happy with the little that you have, there are people wit
Be happy with the little that you have, there are people wit
पूर्वार्थ
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जनता नहीं बेचारी है --
जनता नहीं बेचारी है --
Seema Garg
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का  खेल।
दाल गली खिचड़ी पकी,देख समय का खेल।
Manoj Mahato
कालजयी जयदेव
कालजयी जयदेव
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिल पे पत्थर ना रखो
दिल पे पत्थर ना रखो
shabina. Naaz
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
डॉक्टर रागिनी
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
ज़िंदगी को मैंने अपनी ऐसे संजोया है
Bhupendra Rawat
Love whole heartedly
Love whole heartedly
Dhriti Mishra
उम्मीद है दिल में
उम्मीद है दिल में
Surinder blackpen
खेल और राजनीती
खेल और राजनीती
'अशांत' शेखर
Loading...