Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-219💐

मुश्किल बना दी गई है इक मुलाक़ात के लिए,
नज़र ने दिल से कहा है इक करामात के लिए।।

©®अभिषेक:पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज का शेर
■ आज का शेर
*Author प्रणय प्रभात*
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अब उठो पार्थ हुंकार करो,
अनूप अम्बर
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
* भीतर से रंगीन, शिष्टता ऊपर से पर लादी【हिंदी गजल/ गीति
Ravi Prakash
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
विरह के दु:ख में रो के सिर्फ़ आहें भरते हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"जब रास्ते पर पत्थरों के ढेर पड़े हो, तब सड़क नियमों का पालन
Dushyant Kumar
जीनगी हो गइल कांट
जीनगी हो गइल कांट
Dhirendra Panchal
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मैं भौंर की हूं लालिमा।
मैं भौंर की हूं लालिमा।
Surinder blackpen
प्यासा_कबूतर
प्यासा_कबूतर
Shakil Alam
आईना
आईना
डॉ प्रवीण ठाकुर
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
Radhakishan Mundhra
भीड़ पहचान छीन लेती है
भीड़ पहचान छीन लेती है
Dr fauzia Naseem shad
पैसा और ज़रूरत
पैसा और ज़रूरत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सम्बन्धों  में   हार  का, अपना  ही   आनंद
सम्बन्धों में हार का, अपना ही आनंद
Dr Archana Gupta
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
गुरु मांत है गुरु पिता है गुरु गुरु सर्वे गुरु
प्रेमदास वसु सुरेखा
सही नहीं है /
सही नहीं है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इक तेरा ही हक है।
इक तेरा ही हक है।
Taj Mohammad
मेरी अम्मा तेरी मॉम
मेरी अम्मा तेरी मॉम
Satish Srijan
" माँ का आँचल "
DESH RAJ
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
2232.
2232.
Dr.Khedu Bharti
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
प्यार ना होते हुए भी प्यार हो ही जाता हैं
J_Kay Chhonkar
💐प्रेम कौतुक-517💐
💐प्रेम कौतुक-517💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शर्म
शर्म
परमार प्रकाश
अग्निपरीक्षा
अग्निपरीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
काले समय का सवेरा ।
काले समय का सवेरा ।
Nishant prakhar
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गज़ल (इंसानियत)
गज़ल (इंसानियत)
umesh mehra
Loading...