Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2023 · 1 min read

मुरली कि धुन

कान्हा के मुरली कि धुन,
सुन प्यार मे दौड़ी राधा रानी।

राधा कहे मेरे मन की सुन,
कान्हा काहे करें तु मन मानी।

कान्हा के मुरली कि धुन,
सुन प्यार मे दौड़ी राधा रानी।

सावन की बूँदों मे प्रेम रंग
कान्हा के संग झूले राधे रानी।

गोपियों की माखन मटकी।
काना गोकुल की गलियो मे फोड़े,
गवाले भागे काना को पकड़े,

गोपियों संघ कान्हा करें नौटँकी
छोड़ो कान, सासे मेरी तुझ में अटकी।

अनिल चौबिसा चित्तौड़गढ़ 9829246588

Language: Hindi
95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सूरज आया संदेशा लाया
सूरज आया संदेशा लाया
AMRESH KUMAR VERMA
दोहे-*
दोहे-*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरा सोमवार
मेरा सोमवार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"मैं न चाहता हार बनू मैं
Shubham Pandey (S P)
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
*उम्र के पड़ाव पर रिश्तों व समाज की जरूरत*
Anil chobisa
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
डॉ अरुण कुमार शास्त्री /एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
मस्ती का त्यौहार है,  खिली बसंत बहार
मस्ती का त्यौहार है, खिली बसंत बहार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम दिवानों  ❤️
प्रेम दिवानों ❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
2666.*पूर्णिका*
2666.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मनुष्यता बनाम क्रोध
मनुष्यता बनाम क्रोध
Dr MusafiR BaithA
*****सबके मन मे राम *****
*****सबके मन मे राम *****
Kavita Chouhan
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
*कोरोना- काल में शादियाँ( छह दोहे )*
Ravi Prakash
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
चेहरे पे लगा उनके अभी..
चेहरे पे लगा उनके अभी..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
सच तो जीवन में हमारी सोच हैं।
Neeraj Agarwal
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
……..नाच उठी एकाकी काया
……..नाच उठी एकाकी काया
Rekha Drolia
पिटूनिया
पिटूनिया
अनिल मिश्र
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
हकीकत जानूंगा तो सब पराए हो जाएंगे
Ranjeet kumar patre
कब तक कौन रहेगा साथी
कब तक कौन रहेगा साथी
Ramswaroop Dinkar
सोचो जो बेटी ना होती
सोचो जो बेटी ना होती
लक्ष्मी सिंह
।#कविता
।#कविता
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
माँ को अर्पित कुछ दोहे. . . .
sushil sarna
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
हर नदी अपनी राह खुद ब खुद बनाती है ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Loading...