Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

मुझमें भी कुछ अच्छा है

मुझमें भी कुछ अच्छा है
अब मैंने ये जाना है,
ख़ुद को इतना क़ाबिलतर
अब मैंने पहचाना है !!

28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मुझसे गुस्सा होकर
मुझसे गुस्सा होकर
Mr.Aksharjeet
घूर
घूर
Dr MusafiR BaithA
ख़्वाब सजाना नहीं है।
ख़्वाब सजाना नहीं है।
अनिल "आदर्श"
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
घाट किनारे है गीत पुकारे, आजा रे ऐ मीत हमारे…
Anand Kumar
तू मुझे क्या समझेगा
तू मुझे क्या समझेगा
Arti Bhadauria
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
मेरी सच्चाई को बकवास समझती है
Keshav kishor Kumar
प्रियवर
प्रियवर
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कैसे देख पाओगे
कैसे देख पाओगे
ओंकार मिश्र
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
बड़ा मुंहफट सा है किरदार हमारा
ruby kumari
मन
मन
Sûrëkhâ
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तुंग द्रुम एक चारु🥀🌷🌻🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
वक्त को यू बीतता देख लग रहा,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
2787. *पूर्णिका*
2787. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदू सनातन धर्म
हिंदू सनातन धर्म
विजय कुमार अग्रवाल
सीख
सीख
Dr.Pratibha Prakash
■ निर्णय आपका...
■ निर्णय आपका...
*प्रणय प्रभात*
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
কেণো তুমি অবহেলনা করো
কেণো তুমি অবহেলনা করো
DrLakshman Jha Parimal
"मोबाइल फोन"
Dr. Kishan tandon kranti
रूठा बैठा था मिला, मोटा ताजा आम (कुंडलिया)
रूठा बैठा था मिला, मोटा ताजा आम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
टीस
टीस
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
धनतेरस के अवसर पर ,
धनतेरस के अवसर पर ,
Yogendra Chaturwedi
Loading...