Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2023 · 1 min read

मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी

मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी

मुझको अपनी शरण में ले लो ,हे मनमोहन हे गिरधारी
चरण कमल तेरे बलि – बाले जाऊं ,हे मनमोहन हे गिरधारी

मिथ्या अभिमान से दूर रखो तुम, हे मनमोहन हे गिरधारी
पाप – पुण्य का भेद बताओ ,हे मनमोहन हे गिरधारी

हाथ जोड़ तेरे मंदिर आऊँ, हे मनमोहन हे गिरधारी
पाऊँ तेरा दरश गिरधारी, हे मनमोहन हे गिरधारी

पहला ऋतुफल तुझको अर्पित, हे मनमोहन हे गिरधारी
पाछे सब पाऊँ बनवारी हे, मनमोहन हे गिरधारी

मनोहर छवि मुझे भाये तुम्हारी ,मुझको दरश दिखाओ गिरिधारी
मात- पिता की सेवा कर लूं ऐसे भाग्य जगाओ ,बनवारी हे मनमोहन हे गिरधारी

मोक्ष मार्ग बतलाओ हे प्रभु ,अपने चरणों में लाओ मुरारी
कोमल वाणी प्यारी मुझको जीवन तृष्णा मिटाओ ,गिरिधारी हे मनमोहन हे गिरधारी

माया मोह से मुझे बचाओ ,जीवन पार लगाओ बनवारी
चरण कमल तेरे बलि – बलि जाऊं, हे मनमोहन हे गिरधारी

मुझको अपनी शरण में ले लो ,हे मनमोहन हे गिरधारी
चरण कमल तेरे बलि – बाले जाऊं ,हे मनमोहन हे गिरधारी

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*Author प्रणय प्रभात*
हसीन तेरी सूरत से मुझको मतलब क्या है
हसीन तेरी सूरत से मुझको मतलब क्या है
gurudeenverma198
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐 Prodigy Love-25💐
💐 Prodigy Love-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदी शायरी संग्रह
हिंदी शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
आसमानों को छूने की जद में निकले
आसमानों को छूने की जद में निकले
कवि दीपक बवेजा
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
मन पतंगा उड़ता रहे, पैच कही लड़जाय।
Anil chobisa
बिजलियों का दौर
बिजलियों का दौर
अरशद रसूल बदायूंनी
खुशी(👇)
खुशी(👇)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
खोया हुआ वक़्त
खोया हुआ वक़्त
Sidhartha Mishra
मुक्तक
मुक्तक
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
*नौकरपेशा लोग रिटायर, होकर मस्ती करते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
इश्क की रूह
इश्क की रूह
आर एस आघात
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
Neeraj Agarwal
बस जाओ मेरे मन में
बस जाओ मेरे मन में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भोर
भोर
Kanchan Khanna
कबीर का पैगाम
कबीर का पैगाम
Shekhar Chandra Mitra
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
Subhash Singhai
Needs keep people together.
Needs keep people together.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
योग का गणित और वर्तमान समस्याओं का निदान
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
अभिनय चरित्रम्
अभिनय चरित्रम्
मनोज कर्ण
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...