Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
May 19, 2022 · 2 min read

मिसाइल मैन

युगों- युगों ऐसा लाल
कभी-कभी ही इस
धरती पर आता है।
जो अपनी पहचान
नाम से नही,
अपने कर्म से बनाता है।
कर्म ही सबसे बड़ी पूजा है,
यह सीख हमें दे जाता है।

भारत के वे एक रत्न थे,
कई रत्नों में वह सबसे थे अनोखे।
न था उस रत्न का कोई मोल,
वह थे सबसे अनमोल
और हमेशा हम सब
के लिए रहेगें वें अनमोल।

जाति-धर्म से परे वह इंसान,
मानों मिला हो उनके रूप में
हमें ईश्वर से है वरदान।
उनके रोम- रोम में बसता था
देश के लिए प्राण।
उनका तन मन धन सब
देश के लिए था कुर्बान।

भारत के लिए वह थे भगवान,
देश के लिए किया था उन्होने,
मिसाइल और परमाणु बम का निर्माण।
वे देश के थे स्वाभिमान,
वह कोई और नहीं,
वह थे जन- जन के प्रिय
हम सब के डाॅ . अब्दुल कलाम।
जिसे हम सब मिसाइल मैन
के नाम से जानते हैं।

इस सदी के हमारे देश के
श्रेष्ठ वैज्ञानिक थे वह महान।
सब धर्मों को मानने वाले
चाहे गीता हो या हो कुरान।
न था किसी के लिए उनके मन में बैर,
न था उनके मन में अहंकार।
था तो सिर्फ सबके लिए प्यार,
और सबके लिए मन में सम्मान।

इनका जन्म १५ अक्टूबर १९३१ को,
रामेश्वरम तमिलनाडु में हुआ था।
बालपन में जब देखा भेद-भाव,
तो इनके मन में कई उठे थे सवाल ।
इन सवालों का हल निकालने के लिए
उन्होनें हाथ में उठाई थी किताब
और जो हल निकाल कर उन्होंने दिया।
उस पर हमें युगों – युगों तक नाज रहेगा,
और देश उनके आविष्कार के लिए,
हमेंशा ऋणी रहेगा।

किसी का दिल न दुखाने वाले,
पैर जमीं पर रखकर सपने
हमेशा ऊंचे देखने वाले।
स्वदेशी का पाठ पढाने वाले,
हर परिस्थिति मे मुस्कुराने वाले,
थे हम सब के प्रिय अब्दुल कलाम।

विज्ञान क्षेत्र मे हमेशा अभ्यास
करते रहने वाले,
हमारे इस मिसाइल मैन को
कई बार निराशा हाथ लगी।
पर इन्होंने कभी भी आस
का दामन नही छोड़ा और
हमेशा कुछ न कुछ नया करते रहे।
उनके द्वारा किए गए आविष्कार
के कारण उन्हें
भारत रत्न से नवाजा गया था।

२००२ से लेकर २००७ तक
ये राष्ट्रपति के पद पर सम्मानित रहे थे।
इस बीच उन्होंने देश के उत्थान,
के लिए बहुत काम किया था।

इनके जीवन को जितना जानिए,
इनके चरित्र को जितना समझिए,
हमेशा बहुत कुछ सीखने को मिलता है।
ऐसे भारत रत्न को मेरा
शत-शत बार प्रणाम है।

~अनामिका

4 Likes · 3 Comments · 61 Views
You may also like:
" सूरजमल "
Dr Meenu Poonia
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
अरदास
Buddha Prakash
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
राम राज्य
Shriyansh Gupta
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
✍️अहज़ान✍️
"अशांत" शेखर
संगम....
Dr. Alpa H. Amin
अस्मतों के बाज़ार लग गए हैं।
Taj Mohammad
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
विलुप्त होती हंसी
Dr Meenu Poonia
चाहत
Lohit Tamta
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
मेरे पिता
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
पुस्तक समीक्षा *तुम्हारे नेह के बल से (काव्य संग्रह)*
Ravi Prakash
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
लोग जमसे गये है।
"अशांत" शेखर
ज़िंदगी।
Taj Mohammad
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
सच्चा प्यार
Anamika Singh
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
जिन्दगी खर्च हो रही है।
Taj Mohammad
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
लाल टोपी
मनोज कर्ण
Loading...